अफ़ग़ान राष्ट्रपति चुनाव दूसरे दौर में दाख़िल हुआ

अब्दुल्ला अब्दुल्ला इमेज कॉपीरइट
Image caption अफ़गानिस्तान के राष्ट्रपति चुनावों में अब्दुल्ला अब्दुल्ला अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी से आगे चल रहे हैं.

अफ़ग़ानिस्तान में राष्ट्रपति चुनाव के शुरुआती नतीजों के अनुसार कोई भी उम्मीदवार 50 फ़ीसदी मत पाने में विफल रहा.

इस तरह विजेता का फ़ैसला अब दूसरे दौर के चुनाव में दो सबसे ज़्यादा मत पाने वाले उम्मीदवारों के बीच होगा.

चुनाव के शुरुआती परिणाम दिखाते हैं कि पूर्व विदेश मंत्री अब्दुल्लाह अब्दुल्लाह को 44.9 फीसदी मत मिले हैं जबकि उनके नज़दीकी प्रतिद्वंदी पूर्व वित्त मंत्री अशरफ ग़नी ने 31.5 फीसदी मत हासिल किए हैं.

अफ़गानिस्तान में पांच अप्रैल को राष्ट्रपति चुनावों के लिए वोट डाले गए थे. अधिकारियों का कहना है कि अब दूसरे चरण का चुनाव संभवतः जून के शुरुआत में होगा.

पहले दौर के चुनाव के आधिकारिक परिणाम मई के मध्य में आएंगे.

धांधली की शिकायतें

इससे पहले आंशिक नतीजों में पूर्व विदेश मंत्री अब्दुल्ला अब्दुल्ला को 43.8 प्रतिशत मतों से आगे बताया गया था.

काबुल में मौजूद बीबीसी संवाददाता डेविड लायन के अनुसार, चुनावों में धांधली की शिकायतें बढ़ रही हैं. आरोप लगाए जा रहे हैं कि मत पेटियों से छेड़छाड़ की गई और मतगणना में भी धांधली हुई.

इमेज कॉपीरइट

इन शिकायतों पर निर्णय आने के बाद चुनाव के अंतिम नतीज़े 14 मई को घोषित किए जाएंगे.

संवैधानिक रूप से निवर्तमान राष्ट्रपति हामिद करजई तीसरे कार्यकाल के लिए इस पद की दावेदारी से वंचित हैं.

लाखों अफ़गानों ने तालिबान की धमकियों को नज़रअंदाज करते हुए इस चुनाव में हिस्सा लिया था.

चुनाव प्रचार के दौरान कई हमलों और मतदान के दिन ख़राब मौसम के बावजूद इस चुनाव में 2009 में हुए राष्ट्रपति चुनावों के मुकाबले दोगुना मतदान हुआ था.

इस चुनाव के साथ ही देश में पहली बार लोकतांत्रिक तरीक़े से सत्ता का हस्तांतरण होगा.

अगले राष्ट्रपति को बढ़ती चरमपंथी हिंसा और इस साल अफ़गानिस्तान से विदेशी सुरक्षा बलों की वापसी के बाद देश की सुरक्षा जिम्मेदारी संभालने की चुनौती का सामना करना होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार