बराक ओबामा मलेशिया के दौरे में अनवर इब्राहीम से नहीं मिले

ओबामा मलेशिया बादशाह इमेज कॉपीरइट AFP

शनिवार को मलेशिया पहुंचे अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने क़ैद में रह रहे विपक्षी नेता अनवर इब्राहीम से भेंट नहीं किया.

हालांकि उन्होंने कहा कि अनवर इब्राहीम से मुलाक़ात न करने से ये मतलब न निकाला जाना चाहिए कि इस मामले में अमरीका चिंतित नहीं है. ओबामा ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नजीब रज्ज़ाक से मानवधिकार के मामलो को लेकर बातचीत की है.

अमरीका ने अनवर इब्राहीम को क़ैद किए जाने की निंदा की थी.

विपक्षी नेता पर अपने सहयोगी के साथ गुदा मैथून का आरोप है.

पहला दौरा

ओबामा फ़िलहाल एशिया के सात दिनों के दौरे पर हैं. क़रीब 50 वर्षों में किसी अमरीकी राष्ट्रपति का यह पहला मलेशियाई दौरा है.

अपने आधिकारिक दौरे के दूसरे दिन ओबामा ने कहा कि अमरीका और मलेशिया के बीच ''सहयोग का एक नया युग'' शुरू होने वाला है. उन्होंने मलेशियाई बादशाह अब्दुल हलीम मुअद्ज़म के साथ एक राजकीय समारोह में यह बात कही.

दशकों के असहज संबंधों के बाद इस यात्रा से अमरीका और मलेशिया के द्विपक्षीय संबंधों के बेहतर होने के आसार हैं.

ऐसी उम्मीद है कि ओबामा इस क्षेत्र में चीन के प्रभाव को कम करने के लिए मलेशिया के साथ व्यापारिक संबंधों में मज़बूती लाने की कोशिश करेंगे.

अमरीका ने हाल में एक लापता मलेशियाई विमान की खोज के लिए कुआलालंपुर को सैन्य सहायता भी मुहैया कराई है.

ओबामा शनिवार शाम स्थानीय समयानुसार मलेशिया के वायु सेना अड्डा सूबंग पहुंचे.

अमरीकी राष्ट्रपति एशिया के चार देशों की यात्रा पर हैं. वो इससे पहले जापान तथा कोरिया का दौरा पूरा कर चुके हैं और यहां से वो फिलीपींस जाएंगे.

कुआलालंपुर में मौजूद बीबीसी संवाददाता जेनिफ़र पाक ने बताया है कि ओबामा के आगमन पर मलेशियाई सरकार द्वारा नियंत्रित अख़बारों के पहले पन्ने पर "वेलकम, मिस्टर प्रेसीडेंट "

शीर्षक से अमरीकी झंडे की तस्वीर प्रकाशित की गई है.

अहम देश

इमेज कॉपीरइट AP

कुछ विश्लेषकों का मानना है कि ओबामा ने मलेशिया की यात्रा पर आने में काफ़ी वक़्त लिया, जबकि इसके क्षेत्र में उनका बचपन गुज़रा है. बचपन का कुछ समय पड़ोसी देश इंडोनेशिया में गुजरा है.

पूर्व मलेशियाई नेता महातीर मोहम्मद के शासनकाल के दौरान पश्चिम विरोधी बयानबाजी की वजह से अमरीकी राष्ट्रपतियों ने इस देश से वर्षों तक दूरी बनाए रखी थी.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि मौजूदा प्रधानमंत्री नज़ीब रज़ाक चाहते हैं कि अमरीका अब मलेशिया को वैश्विक खिलाड़ी के रूप में तवज्जो दे.

वहीं ओबामा चाहते हैं कि कुआलालंपुर 10 अन्य देशों के साथ तथाकथित 'ट्रांस पेसिफ़िक पार्टनरशिप' जैसे एक मुक्त व्यापार समझौते पर हस्ताक्षर करे.

ओबामा के उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बेन रोड्स का कहना है कि हाल के वर्षों में अमरीका और मलेशिया के संबंधों में सुधार आया है.

एसोसिएटेड प्रेस ने रोड्स के हवाले से लिखा है कि तेजी से तरक्क़ी करने वाले और रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण इस क्षेत्र में अपने संबंधों को मजबूती देने के लिए ओबामा प्रशासन के लिए मलेशिया एक अहम देश बन गया है.

हालांकि मलेशिया में मुसलमानों का दावा है कि अमरीकी नेतृत्व वाले व्यापार समझौते से देश में अन्य जातीय समूहों के मुकाबले उनके आर्थिक विशेषाधिकारों में कमी आएगी.

ओबामा दक्षिण कोरिया से मलेशिया पहुंचे हैं और वो 29 अप्रैल को फिलीपींस की यात्रा के साथ एशियाई दौरे को ख़त्म करेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार