सऊदी अरबः मर्स वायरस से 100 से अधिक की मौत

  • 29 अप्रैल 2014
सऊदी अरब मर्स कोरोना वायरस इमेज कॉपीरइट AFP

सऊदी अरब ने मर्स कोरोना वायरस से संक्रमित होने वाले 100 से अधिक मरीजों की मौत की जानकारी दी है. यहां इस बीमारी का पता पहली बार साल 2012 में चला था.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने रविवार को मर्स के आठ और मरीजों की मौत की पुष्टि की है.

इसके बाद इस वायरस से मरने वालों की कुल संख्या 102 हो गई है.

30 हज़ार साल बाद लौटा वायरस

सऊदी अरब के कार्यकारी स्वास्थ्य मंत्री के अनुसार मर्स वायरस से पीड़ित मरीजों को विशेष चिकित्सकीय मदद मुहैया कराने के लिए रियाद, जेद्दा और दमाम में विशेष चिकत्सा केंद्र के रूप में तीन अस्पतालों को तैयार किया गया है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन

इमेज कॉपीरइट AP

मर्स के मरीजों में आमतौर पर बुखार, निमोनिया और खराब किडनी जैसी लक्षण पाए जाते हैं.

इस वायरस से संक्रमित होने वाले मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. नाजुक हालात को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने संक्रमण के स्वरूप की जांच-परख के लिए मदद के हाथ बढाए हैं.

वे डॉक्टर जिन्होंने दुनिया की जान बचाई

सऊदी स्वास्थ्य मंत्री ने रविवार को दिए गए एक बयान के जरिए मौत के अब तक के सबसे ताजे मामले की जानकारी दी.

इस जानलेवा वायरस से मरने वालों में राजधानी रियाद का एक बच्चा और पश्चिमी शहर जेद्दा के तीन लोग शामिल हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि पिछले 24 घंटों में उसे मर्स के 16 नए मामलों का पता चला है.

चिंताजनक सरकारी तरीका

कार्यकारी स्वास्थ्य मंत्री अदेल फकीह ने बताया कि मरीजों के इलाज के लिए तीन अस्पताल तैयार किए गए हैं. इन अस्पतालों में 146 मरीजों का गहन उपचार किया जा सकता है.

लाखों वायरस को 'आश्रय' देते हैं स्तनपायी

रविवार को मिस्र में मर्स कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज का पहला मामला सामने आया था. 27 साल का यह मरीज हाल ही में सऊदी अरब के सफर से लौटा बताया जाता है.

इमेज कॉपीरइट AFP

सूत्रों का कहना है कि सऊदी अरब के कई नागरिकों ने सोशल मीडिया पर इस बीमारी से निपटने के सरकार के तौर-तरीकों पर गहरी चिंता जताई है.

पिछले सोमवार सऊदी अरब में मर्स से होने वाली मौतों में इजाफा होने के बाद स्वास्थ्य मंत्री अबदुल्लाह अल रबीह को सफाई देने का मौका दिए बिना ही पद से हटा दिया गया था.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार