विद्रोहियों की कार्रवाई में पायलट की मौत

इमेज कॉपीरइट AP

यूक्रेन की सरकार ने कहा है कि उसके सुरक्षा बल देश के पूर्वी शहर स्लोवियांस्क में चरमपंथ विरोधी कार्रवाई जारी रखे हुए हैं.

गृह मंत्री आर्सेन आवकोव ने कहा कि इस कार्रवाई में एक पायलट की मौत हो गई और एक अन्य व्यक्ति घायल हो गया. उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों ने विद्रोहियों के नौ चेकप्वाइंट को अपने कब्जे में ले लिया है.

वहीं स्लोवियांस्क के तीन चेकप्वाइंट पर अलगाववादियों ने बीबीसी से कहा कि वहाँ उनका अभी भी कब्जा है.

रूस समर्थक बंदूकधारियों ने कम से कम दो हेलिकॉप्टरों को मार गिराया है और ख़बरों के मुताबिक़ उन्होंने एक पायलट को अपने कब्ज़े में भी रखा है.

तेज़ होती लड़ाई

क्षेत्रीय राजधानी दोनेतस्क में मौज़दू बीबीसी संवाददाता रासा रेंसफ़ोर्ड के अनुसार इस शहर के आसपास लड़ाई और तेज़ होती जा रही है.

स्लोवियांस्क रूस समर्थक अलगाववादियों की मज़बूत पकड़ वाला इलाक़ा है, जो कि इलाक़े पर अपनी पकड़ और मजबूत बनाते जा रहे हैं.

गुरुवार को रूसी विदेश मंत्री ने चेतावनी दी थी कि इस इलाक़े में यूक्रेन के सैनिकों के किसी भी तरह के आक्रमण के विनाशकारी परिणाम होंगे और रूस की हस्तक्षेप की आशंका को बढ़ाएंगे.

शुक्रवार को जारी बयान में आर्सेन आवकोव ने कहा कि इस अभियान का सक्रिय चरण स्थानीय समयानुसार साढ़े चार बजे (02.20 जाएमटी) शुरू हुआ.

उन्होंने कहा कि स्लोवियांस्क- क्रामाटोर्सक इलाक़े में हो रही इस कार्रवाई में आंतरिक सुरक्षा बल और नेशनल गार्ड शामिल हैं.

उन्होंने कहा, '' चरमपंथियों ने यूक्रेन के विशेष सुरक्षा बलों पर भारी हथियारों से हमला कर दिया.''

उन्होंने कहा,'' किराये के सिपाहियों के साथ वास्तविक लड़ाई जारी है. अलगाववादी इस इलाके में नागरिकों के घरों में छिपने की रणनीति अपना रहे हैं. ''

रूस के सरकारी टीवी चैनल रूसिया 24 ने कहा है कि शहर पर धावा बोला गया था. टीवी ने स्लोवियांस्क के विद्रोहियों के नेता ईगोर स्टर्लकोव को यह कहते हुए दिखाया है कि शहर को पूरी तरह सीलबंद कर दिया गया था.

जर्मनी की अपील

इमेज कॉपीरइट AFP

अभी हाल में यूक्रेन के कार्यवाहक राष्ट्रपति अलेक्जेंडर तुर्चिनोव ने सेना में भर्ती अनिवार्य कर दी है.

तुर्चिनोव ने कहा कि देश के कुछ पूर्वी हिस्सों में उनके सुरक्षा बल विद्रोह को कुचल पाने में असहाय हैं. उन्होने कहा कि अब हमारा लक्ष्य इसे और फैलने से रोकना है.

उन्होंने यह भी कहा था कि रूसी सैनिकों के हमले की आशंका को देखते हुए पूरी तैयारी के साथ सतर्क थे.

यूक्रेन की सीमा के पास क़रीब 40 हज़ार रूसी सैनिक डेरा डाले हुए हैं.

पूर्वी यूक्रेन में रूसी बोलने वालों की संख्या बहुत अधिक है और पूर्व राष्ट्रपति विक्टर यानकोविच के पश्चिम समर्थक प्रदर्शनकारियों की ओर से किए गए तख्तापलट के पहले उनकी इन लोगों पर मज़बूत पकड़ थी.

गुरुवार को जर्मनी की चांसलर एंजेला मार्केल ने रूसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन से टेलीफ़ोन पर हुई बातचीत में पूर्वी यूक्रेन में बंधक बनाए गए विदेशी पर्यवेक्षकों को मुक्त कराने में मदद करने का अनुरोध किया था.

मार्केल शुक्रवार को यूक्रेन संकट पर चर्चा करने के लिए अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा से मिल सकती हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार