सीरियाई विपक्ष को वॉशिंगटन में राजनयिक मिशन की अनुमति

सीरियाई विपक्ष के नेता इमेज कॉपीरइट AP
Image caption सीरिया की विपक्षी परिषद के अध्यक्ष अहमद अल जरबा जल्द ही अमरीका जाएंगे

अमरीका ने कहा है कि वो सीरिया के मुख्य विपक्षी गठबंधन को राजधानी वॉशिंगटन में राजनयिक मिशन खोलने की अनुमति देगा.

सीरिया में अभी तक इस गठबंधन का केवल एक अनौपचारिक संपर्क कार्यालय भर है. इसके अलावा अमरीका ने सीरिया के विद्रोही नेताओं को दो करोड़ सत्तर लाख अमरीकी डॉलर की अतिरिक्त सहायता देने की भी घोषणा की है.

अमरीका ने ये क़दम सीरिया की विपक्षी परिषद के अध्यक्ष अहमद अल जरबा और अमरीकी अधिकारियों के बीच होने वाली बातचीत के ठीक पहले उठाया है.

अमरीका ने दिसंबर 2012 में इस परिषद को सीरियाई लोगों के वैध प्रतिनिधि के तौर पर मान्यता दी थी. अमरीकी विदेश मंत्रालय की एक प्रवक्ता मेरी हार्फ़ का कहना था कि इस क़दम से सीरिया के विपक्षी गठबंधन को और प्रभावी तरीके से अमरीकी मदद मिल सकेगी.

लेकिन उन्होंने साफ़ किया, "इसका मतलब ये नहीं है कि सीरियाई विपक्षी परिषद यानी एसओसी को सीरियाई सरकार के समकक्ष मान्यता दे दी गई है. ये सिर्फ़ गठबंधन के साथ हमारी साझेदारी की झलक है कि हम सीरियाई लोगों के वैध प्रतिनिधि के तौर पर एसओसी को ही मान्यता देते हैं."

नहीं मिलेंगे विशेषाधिकार

उन्होंने कहा, "इससे कुछ अच्छी बातें सामने आएंगी. इसकी वजह से हम औपचारिक तौर पर अमरीका में इन्हें बैंकिंग और सुरक्षा जैसी सेवाएं मुहैया करा सकेंगे."

गठबंधन परिषद के अध्यक्ष अहमद अल जरबा जल्द ही अपनी पहली अमरीका यात्रा पर जाने वाले हैं जहां वॉशिंगटन में उनकी अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय वार्ता होनी है.

उधर सीरिया में जारी संकट शांतिपूर्ण हल निकालने के प्रयासों को बार-बार झटका लग रहा है. वहां विपक्षी दल चाहता है कि अमरीका उसे अत्याधुनिक हथियार मुहैया कराए ताकि वो राष्ट्रपति बशर अल असद की सेनाओं को मिल रहे सैन्य लाभ का प्रतिरोध कर सकें. सीरिया में जून महीने में राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव होने हैं.

बीबीसी संवाददाता बारबरा प्लेट का कहना है कि इस क़दम से न तो इस परिषद को सीरियाई सरकार के तौर पर मान्यता मिलेगी और न ही इसके सदस्यों को राजनयिक विशेषाधिकार मिलेंगे.

यही नहीं, विपक्षी गठबंधन के सदस्यों को सीरियाई दूतावास पर क़ब्ज़ा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी. अमरीकी विदेश मंत्रालय ने इस दूतावास को मार्च महीने में निलंबित कर दिया था.

लेकिन एक अमरीकी अधिकारी का कहना था कि सीरियाई विपक्षी गठबंधन इसकी काफ़ी समय से मांग कर रहा था क्योंकि उन्हें लगता है कि इसकी वजह से न सिर्फ़ उनकी उपस्थिति बढ़ेगी बल्कि अमरीकी अधिकारियों के बीच उनकी विश्वसनीयता भी बढ़ेगी.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार