9/11 हमला : ग्राउंड ज़ीरो लाए गए मृतकों के अवशेष

  • 14 मई 2014
ग्यारह सितंबर 2001 के हमले में मारे गए लोगों के अवशेष ले जाते अधिकारी इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीका में 11 सितंबर 2001 को हुए हमले में मारे गए लोगों के हज़ारों अज्ञात अवशेषों को एक धार्मिक समारोह के लिए ग्राउंड ज़ीरो लाया गया.

इन हमलों का निशाना बने वर्ल्ड ट्रेड सेंटर की जगह को अब ग्राउंड ज़ीरो कहा जाता है.

अवशेषों को मुख्य चिकित्सा परीक्षक के कार्यालय से 15 गाड़ियों में लाया गया. मुख्य चिकित्सा परीक्षक हीइन अवशेषों के संग्राहक हैं.

समारोह को लेकर हादसे के पीड़ित परिवारों की राय बंटी हुई थी, कुछ लोगों ने स्मारक के पास प्रदर्शन भी किया.

हमले के पीड़ित

11 सितंबर 2001 को हुए हमले में न्यूयॉर्क, वॉशिंगटन डीसी और पेनसिल्वेनिया में क़रीब तीन हज़ार लोगों की मौत हुई थी.

इन अवशेषों में मानव ऊतक के 7930 टुकड़े शामिल हैं, जिनकी फ़ॉरेंसिक विज्ञान के विशेषज्ञ अभी पहचान नहीं कर पाए हैं.

इन अवशेषों को धातु के बने बक्सों में लाया गया. अमरीकी ध्वज से ढके ये बक्से एक काफिले के रूप में मैनहट्टन में स्थित घटनास्थल पर लाया गया. काफ़िले में फ़ायर ब्रिगेड की गाड़ियां और पुलिस के वाहन शामिल थे.

वर्दीधारी फ़ायर ब्रिगेडकर्मियों और पुलिस के जवानों ने इन बॉक्सों को 9/11 स्मारक संग्रहालय के निचले हिस्से में एक नियत स्थान पर रखा.

यह स्थान 20 मीटर ज़मीन के नीचे है. यह अभी भी न्यूयार्क के चिकित्सा परीक्षक के नियंत्रण में है. वहां जाने की इजाजत केवल हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों और फॉरेंसिक विशेषज्ञों को ही है.

अधिकारियों का कहना है कि भविष्य में फॉरेंसिक विज्ञान का और विकास होने के बाद इन अवशेषों की पहचान के और प्रयान किए जा सकेंगे.

हमले के पीड़ितों के कुछ परिजनों ने कार्यक्रम स्थल के पास शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन किया.

हमले में मारे गए एक फ़ायर ब्रिगेड कर्मचारी की माँ शैली रीगनहार्ड ने समाचार एजेंसी एएफ़पी से कहा कि शहर के अधिकारियों ने इस विचार का परिवारों के प्रचार नहीं किया क्योंकि अधिकांश परिवार इस योजना के खिलाफ थे.

उन्होंने कहा,'' मेरे बेटे और सभी तीन हज़ार पीड़ितों के अवशेष एक सुंदर और सम्मानजनक स्मारक में होने चाहिए स्मारक के तहखाने में नहीं.''

उन्होंने कहा, '' इसको लेकर हममे गुस्सा है और हम व्यथित हैं. यह अपमान और अवशेषों का अपवित्रिकरण है.''

अवशेषों का अपवित्रिकरण

इमेज कॉपीरइट AFP

हमले में रोज़लीन टालून के भाई भी मारे गए थे, उन्होंने कहा, '' इन अवशेषों को संग्रहालय में रखने को मेरे बच्चों को समझाना पाना बहुत कठिन है.''

जबकि न्यूयार्क के मेयर कार्यालय ने समारोह से पहले कहा कि यह सम्मानजनक और सभ्य तरीक़े से होगा.

वहीं कुछ परिवारों ने इस समारोह का समर्थन भी किया. चार्ल्स वूल्फ़ की पत्नी कैथरीन इस हादसे में मारी गई थीं, उन्होंने कहा,'' जब मैंने बक्सों को अमरीकी झंडे के साथ देखा तो मुझे गर्व की अनुभूति हुई.''

वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुए हमले में मारे गए 2753 लोगों में से 1115 लोगों की अभी पहचान नहीं हो पाई है.

वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के ट्विन टॉवर वाली जगह पर वन वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के नाम से एक ऊंची इमारत बनाई गई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार