अबु हमज़ा चरमपंथी मामलों में दोषी क़रार

अबु हमज़ा इमेज कॉपीरइट Reuters

न्यूयॉर्क की एक अदालत ने मिस्र में पैदा हुए उग्र इस्लामी उपदेशक इमाम अबु हमज़ा को चरमपंथ के ग्यारह मामलों में दोषी पाया है.

लंदन की एक मस्जिद में तेज़तर्रार इस्लामी उपदेशक रहे अबु हमज़ा को लगभग दो वर्ष पहले ब्रिटेन से अमरीका लाया गया था.

उन पर यमन में वर्ष 1998 में पश्चिमी देशों के पर्यटकों की हत्या, अमरीका में जेहादी कैम्प स्थापित करने और अफ़ग़ानिस्तान में अल-क़ायदा और तालिबान को मदद पहुंचाने के आरोप थे.

अबु हमज़ा इन आरोपों से इंकार करते रहे हैं. मुक़दमे की सुनवाई के दौरान अबु हमज़ा ने कहा कि वे ओसामा बिन लादेन को चाहते थे लेकिन उनके तौर-तरीक़ों से सहमत नहीं थे. इस मामले में उन्हें उम्रक़ैद की सज़ा हो सकती है.

'चरमपंथियों के प्रशिक्षक'

इस्लामी उपदेशक अबु हमज़ा ब्रिटेन में तब चर्चा में आए थे जब उन्होंने अमरीका पर चरमपंथी हमलों के बाद फिंसबरी पार्क मस्जिद के बाहर भाषण दिया था जिसमें उन्होंने विमानों का अपहरण करने वालों की सराहना की थी.

इसके बाद वर्ष 2012 में उन्हें प्रत्यर्पण के ज़रिए ब्रिटेन से अमरीका लाया गया था. हमज़ा को हत्या के लिए उकसाने और नफ़रत भरे भाषण के लिए सात साल जेल की सज़ा सुनाई गई थी.

इमेज कॉपीरइट AP

न्यूयॉर्क में आठ पुरुषों और चार महिलाओं वाली ज्यूरी सर्व सहमति से इस निर्णय पर पहुंची कि हमज़ा चरमपंथ संबंधी 11 मामलों में दोषी हैं.

मैनहट्टन में यूएस अटार्नी प्रीत भरारा का कहना है, ''प्रतिवादी को दोषी पाया गया, इसके लिए नहीं कि उन्होंने क्या कहा था, बल्कि उसके लिए जो उन्होंने किया था.''

भरारा का कहना है, ''अबु हमज़ा एक उपदेशक नहीं हैं बल्कि चरमपंथियों को प्रशिक्षण देने वाले हैं.''

पूरे मुक़दमे के दौरान अबु हमज़ा दावा करते रहे कि उन्होंने ब्रितानी सुरक्षा सेवा एमआई-5 की मदद की थी.

अबु हमज़ा को नौ सितम्बर को सज़ा सुनाई जाएगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार