इराक़: नूरी अल-मलिकी के गठबंधन को जीत

नूरी अल-मलिकी, इराक़ इमेज कॉपीरइट Reuters

इराक़़ में पिछले महीने हुए संसदीय चुनावों के शुरुआती परिणाम सोमवार को आ गए हैं. चुनाव में प्रधानमंत्री नूरी अल-मलिकी के गठबंधन को जीत हासिल हुई है. हालांकि उनका गठबंधन बहुमत पाने से मामूली अंतर से चूक गया है.

इराक़ के चुनाव आयोग के अनुसार मलिकी के स्टेट ऑफ़ लॉ गठबंधन ने बग़दाद, बसरा और अन्य कई क्षेत्रों में ज्यादातर सीटों पर विजय हासिल की है. देश में कुल 328 सीटों में से मलिकी का गठबंधन 92 सीटों पर चुनाव जीत चुका है.

मलिकी के दो मुख्य शिया प्रतिस्पर्धी दलों मुवातीन और मोक़तदा अल-सद्र को संयुक्त रूप से 57 सीटों पर जीत मिली है. अल-सद्र अहरार आंदोलन के प्रति समर्पित रहा है. मुवातीन को 29 और अल-सद्र को 28 सीटों पर जीत मिली है. वहीं सद्र समर्थक दो अन्य छोटे दलों को छह सीटों पर जीत मिली है.

मलिकी तीसरी बार इराक़़ के प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं लेकिन अन्य दलों ने इसका कड़ा विरोध किया है.

इराक़़ में 30 अप्रैल को हुए संसदीय चुनावों में कुल 9,000 प्रत्याशी और 276 राजनीतिक पार्टियों ने भागीदारी की. इराक़़ में साल 2011 में अमरीकी सैन्य टुकड़ियों के वापस जाने के बाद पहली बार चुनाव हुए हैं.

नतीजों का स्वागत

इराक़़ के चुनाव आयोग ने सोमवार को बताया कि कुल दो करोड़ बीस लाख मतदाताओं में से 62 फ़ीसदी ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया.

शुरुआती परिणामों के अनुसार अल-मलिकी के स्टेट ऑफ लॉ गठबंधन को 18 प्रांतों में से 10 में बढ़त हासिल है.

सुन्नी अरब नेता ओसामा अल-नुजाफी के नेतृत्व वाले मुताहिदीन धड़े को 23 सीटों पर जीत मिली है. अल-नुजाफी संसद के सभापति हैं. पूर्व प्रधानमंत्री लियाद अल्लावी के दल वतनिया को 21 सीटों पर जीत मिली है. वहीं सुन्नी अरब उप प्रधानमंत्री सालेह अल-मुतलक़ की अरबिया पार्टी को 10 सीटों पर विजय मिली है.

संयुक्त राष्ट्र के इराक़़ के विशेष प्रतिनिधि निकोल म्लादनोव ने सोमवार को घोषित नतीजों का स्वागत किया है.

इराक़़ के संविधान के अनुसार, राष्ट्रपति चुनाव परिणाम घोषित होने के 15 दिन बाद संसद की पहली बैठक बुलानी होगी. उसके बाद नए प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति और संसद के सभापति का चुनाव होता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार