फिलिप षष्टम बने स्पेन के नए सम्राट

स्पेन के नए राजा फेलिप षष्टम इमेज कॉपीरइट AP

स्पेन के नए राजा फिलिप षष्टम को संसद के एक समारोह में राज्य का प्रमुख घोषित किया गया है.

इससे पहले, राजा फिलिप षष्टम ने मैड्रिड के नज़दीक जरजुएला पैलेस में अपने पिता हुआन कार्लोस से शाही अंगवस्त्र ग्रहण किया.

बुधवार को हुआन कार्लोस के स्वेच्छा से पद छोड़ने के बाद फिलिप षष्टम ने गद्दी पर बैठने का निर्णय लिया.

फिलिप का राज्याभिषेक समारोह बेहद सादे ढंग से संपन्न हुआ. कहा जा रहा है कि राजशाही परिवार के इतने ख़ास समारोह को तड़क-भड़क से दूर रखने का फ़ैसला इसलिए लिया गया क्योंकि स्पेन के अधिकांश नागरिक आर्थिक कठिनाई से जूझ रहे हैं.

समारोह को राज्याभिषेक से ज़्यादा घोषणा माना जा रहा है. स्पेन में साल 1970 में लोकतंत्र की स्थापना होने के बाद पहली बार सत्ता का शाही हस्तांतरण हो रहा है.

46 वर्षीय नए राजा ने संविधान की गरिमा को कायम रखने की शपथ ली.

शपथ ग्रहण के बाद कांग्रेस अध्यक्ष यीशु पोसादा ने इसके बाद उन्हें यह कहते हुए राजा घोषित किया, "स्पेन दीर्घायु हो, राजा दीर्घायु हों!"

चुनौतियां

इमेज कॉपीरइट AFP

संसद में दिए गए अपने भाषण में फिलिप ने अपने माता-पिता का आभार व्यक्त किया और कहा कि वे स्पेन के भविष्य को लेकर बेहद आशान्वित हैं.

उन्होंने कहा, "आप मुझे हमेशा राज्य का वफ़ादार पाएंगे जो हमेशा दूसरों को सुनने और समझने के लिए तैयार होगा, जनता के हितों की रक्षा के लिए तैयार होगा. राजशाही नागरिकों के दिल के करीब रहना चाहती है. हम नागरिकों को आश्वासन देते हैं कि उनकी प्रतिष्ठा और गरिमा की रक्षा होगी. "

इस समारोह में किसी विदेशी नेता या शाही परिवार को आमंत्रित नहीं किया गया था.

सूत्रों के मुताबिक नए राजा यदि राजशाही की प्रतिष्ठा को कायम रखना चाहते हैं तो उन्हें कई कठिन चुनौतियों से जूझना होगा .

लोकप्रिय राजा हुआन कार्लोस

इमेज कॉपीरइट AFP

नए राजा फिलिप षष्टम के पिता हुआन कार्लोस की गिनती दुनिया के सबसे लोकप्रिय राजा में होती थी. लेकिन हाल ही में स्पेन की आबादी के एक वर्ग का उन पर से भरोसा उठ गया था.

कार्लोस की बेटी और दामाद पर लंबे समय से चल रही भ्रष्टाचार संबंधी जाँच से राजा की लोकप्रियता गिरी.

लोगों की नाराज़गी तब और बढ़ गई थी जब ये बात सामने आई कि देश के वित्तीय संकट के समय वो बोत्सवाना में हाथी के शिकार पर गए हुए थे.

जनरल फ़्रांसिस्को फ्रैंको के बाद सत्ता का अधिग्रहण करने वाले कार्लोस पहले राजा हैं जो क़रीब 40 सालों तक अपने पद पर बने रहे.

राजशाही पर सवाल

इमेज कॉपीरइट Getty

इधर कई स्पेनवासी स्पेन में राजशाही हो, या नहीं इस मसले पर जनमत संग्रह की मांग कर रहे हैं.

अधिकारियों की ओर से लगाए गए प्रतिबंध के बावजूद राज्याभिषेक के दिन ही सेंट्रल मैड्रिड में जनमत संग्रह की मांग से जुड़ा एक प्रदर्शन हुआ है.

इमेज कॉपीरइट

मैड्रिड में बीबीसी के क्रिस मोरिस का कहना है कि नए राजा फिलिप षष्टम के सामने दो चुनौतियां हैं. पहली ये कि राजशाही को पुनः स्थापित कैसे किया जाए और दूसरी, उस देश को एकजुट करने की, जिसके मुखर आलोचक राजशाही का खात्मा और लोकतांत्रिक शासन की स्थापना चाहते हैं.

फिलिप षष्टम को राजा हुआन कार्लोस का उत्तराधिकारी बनाए जाने का स्पेन के प्रमुख राजनीतिक दलों ने समर्थन किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार