मकाऊ में वर्ल्ड कप पर सट्टेबाज़ी, 26 गिरफ़्तार

इमेज कॉपीरइट AFP

मकाऊ पुलिस ने कहा है कि उन्होंने दो अवैध सट्टेबाज़ गिरोहों का खुलासा किया है. इन पर वर्ल्ड कप में सैकड़ों हज़़ार डॉलर रुपए का सट्टा लगाने का आरोप है.

पुलिस ने इस सिलसिले में 26 लोगों को गिरफ़्तार किया है. ये गिरफ़्तारियां दो होटलों पर छापेमारी के दौरान की गईं.

पुलिस के मुताबिक़ अवैध तौर पर सटोरिए टेलीफ़ोन और ऑनलाइन साधनों के ज़रिए दुनियाभर में सट्टा लगा रहे थे.

छापेमारी के दौरान पुलिस ने बहुत से सुबूत इकट्ठे किए हैं जिनसे पता चलता है कि एक सटोरिए ने अकेले 50 लाख डॉलर का सट्टा लगाया था.

पुलिस अधिकारियों ने पहले गुरुवार को और फिर शुक्रवार को होटल पर छापा मारा.

पहले छापे में उन्होंने इस सट्टेबाज़ी के नेटवर्क का पता लगाया जो होटल के तीन कमरों से चलाया जा रहा था. अधिकारियों को यहां सट्टे की पर्चियां, सट्टे के खातों और बड़ी तादाद में पैसा मिला.

ग़ैरक़ानूनी

इमेज कॉपीरइट AFP

जिन्हें गिरफ़्तार किया गया है वो चीन, हॉन्गकॉन्ग और मलेशिया के रहने वाले हैं.

इनके चेहरों पर काले कपड़े लपेटकर और हथकड़ी लगाकर कुछ को मीडिया के सामने लाया गया.

सट्टेबाज़ी चीन में तक़रीबन सभी जगह ग़ैरक़ानूनी है हालांकि मकाऊ में इस पर प्रतिबंध नहीं है और कुछ मामलों में हॉन्गकॉन्ग में भी इस पर छूट है.

हालांकि चीन के इन दो पूर्व उपनिवेशों ने वर्ल्ड कप फ़ुटबॉल टूर्नामेंट में ग़ैरक़ानूनी ढंग से चल रही सट्टेबाज़ी के ख़िलाफ़ बड़े पैमाने पर अभियान चला रखा है. टूर्नामेंट का आयोजन ब्राज़ील में चल रहा है.

हॉन्गकॉन्ग पुलिस ने मकाऊ और पड़ोसी चीनी राज्य गुआंगडॉन्ग अधिकारियों की मदद से एक विशेष पुलिस दस्ते का गठन किया है और इस सिलसिले में आठ एशियाई देशों में इंटरपोल की मदद से काम कर रहे हैं.

अधिकारियों को यक़ीन है कि अपराधी गिरोह एशिया में खेल को लेकर सट्टे में इसलिए दिलचस्पी ले रहे हैं क्योंकि इसमें उन्हें भारी कमाई हो रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार