अफ़ग़ानिस्तानः अब्दुल्लाह समर्थकों का विरोध प्रदर्शन

अफ़ग़ानिस्तान, काबुल, चुनाव धांधली के विरोध में प्रदर्शन, अब्दुल्ला अब्दुल्ला के समर्थक इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

अफ़ग़ानिस्तान में राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी अब्दुल्लाह अब्दुल्लाह के समर्थकों ने राजधानी काबुल में चुनाव में हुई कथित धांधली के विरोध में प्रदर्शन किया.

शुक्रवार को हुए विरोध प्रदर्शन में तक़रीबन दस हज़ार से ज़्यादा लोग शामिल हुए.

प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति पद के दूसरे प्रत्याशी अशरफ ग़नी और चुनाव आयोग के ख़िलाफ़ नारे लगा रहे थे.

अब्दुल्लाह अब्दुल्लाह भी पहली बार विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए.

अब्दुल्लाह के समर्थकों का दावा है कि 4 जून को हुए मतदान में उनके ख़िलाफ़ धोखाधड़ी हुई थी.

'हिंसा भड़क सकती है'

अभी तक हुए वोटों की गिनती में अब्दुल्लाह अपने प्रतिद्वंदी प्रत्याशी अशरफ ग़नी से पीछे चल रहे हैं. हालांकि ग़नी ने भी चुनाव में धांधली की शिकायत की है.

इस विवाद के बाद इस साल के अंत तक अमरीकी सेनाओं की अफ़ग़ानिस्तान से वापसी के बाद देश में आतंरिक स्थिरता को लेकर आशंकाएँ बढ़ गई हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption अब्दुल्ला अब्दुल्ला ने संयुक्त राष्ट्र से हस्तक्षेप करने का अनुरोध किया है.

अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र मिशन के प्रमुख जैन कुबिस ने चेतावनी दी है कि विवादित चुनावी नतीजों से नस्ली हिंसा भड़क सकती है और देश फिर से "हिंसा की तरफ़" की तरफ़ जा सकता है.

अमरीकी सैनिकों और अफ़ग़ान सुरक्षा बलों की देश के कई हिस्सों में तालिबान के साथ लड़ाई हो रही है.

अभी अफ़ग़ान सरकार ने उस समझौते को मंजूरी नहीं दी है जिसके तहत साल 2014 के बाद भी अमरीकी सैनिक सीमित संख्या में अफ़ग़ानिस्तान में बने रह सकें.

इस कथित चुनाव धांधली के बाद अब्दुल्लाह ने कहा कि वह चुनाव आयोग के साथ कोई सहयोग नहीं करेंगे. इसके साथ-साथ उन्होंने संयुक्त राष्ट्र से चुनाव प्रक्रिया की निष्पक्षता को बचाने के लिए हस्तक्षेप करने का अनुरोध किया.

दूसरे दौर के राष्ट्रपति चुनाव के प्राथमिक नतीजे दो जुलाई को आएंगे. लेकिन अंतिम नतीजे शिकायतों का निर्णय होने के बाद, 22 जुलाई को आएंगे.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार