कैसे ज़िंदा रहते हैं तिब्बती इतनी ऊँचाई पर?

तिब्बत इमेज कॉपीरइट Getty

एक नए अध्ययन से पता चला है कि ऊँचाई पर ज़िंदगी के साथ तालमेल बिठाने में एक विशेष जीन तिब्बतियों की मददगार है.

इस जीन का ताल्लुक़ इंसान की एक विलुप्त प्रजाति से है.

अधिकांश लोगों की तिब्बत की ऊँचाई वाले क्षेत्रों में ऑक्सीजन की कमी के कारण तबियत ख़राब हो जाती है लेकिन तिब्बतियों में ख़ून को पतला करने वाली एक विशेष प्रकार की जीन पाई जाती है.

इस जीन की वजह से ऑक्सीजन कम होने पर भी इंसान सांस ले सकता है.

यह शोध नेचर जर्नल में प्रकाशित हुआ है.

50 हज़ार साल पुरानी जीन

यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया, बर्कले के वैज्ञानिकों ने इस जीन की खोज डेनिसोवांस प्रजाति के डीएनए में की है.

डेनिसोवांस 50 हज़ार साल पहले पाई जाने वाली इंसान की एक प्रजाति थी.

इस प्रजाति की उंगली की हड्डी के टुकड़े का जीवाश्म एकमात्र ज्ञात जीवाश्म है जो साइबेरिया की एक गुफा में पाया गया था.

डेनिसोवांस प्रजाति के डीएनए का कुछ अंश चीन और पापुआ न्यू गिनी के कुछ समुदायों में भी पाया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार