गज़ा में मिले 20 रॉकेट: यूएन एजेंसी

रॉकेट हमला इमेज कॉपीरइट AFP

फ़लस्तीनी शरणार्थियों के लिए काम कर रही संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी यूएनआरडब्ल्यूए ने कह है कि वह गज़ा पट्टी के एक खाली स्कूल में छिपा कर रखे गए 20 रॉकेटों के मिलने की घटना की जांच कर रही है.

गुरुवार को एजेंसी ने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि यह अंतर्राष्ट्रीय क़ानूनों का 'संगीन उल्लंघन' है.

एजेंसी ने कहा है कि रॉकेटों को हटा दिया गया है और 'संबंधित पक्षों' को सूचना दे दी गई है. एजेंसी ने बुधवार को गज़ा पट्टी के एक खाली स्कूल से लगभग 20 रॉकेट बरामद किए थे.

संघर्ष विराम पर 'सहमति'

उधर, इसराइल के एक अधिकारी ने बीबीसी को बताया है कि इसराइल और फ़लस्तीनी चरमपंथियों के बीच गज़ा में संघर्ष विराम पर समझौता हो गया है.

इस समझौते को शुक्रवार को स्थानीय समयानुसार सुबह छह बजे से प्रभावी होना है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption संघर्षविराम के दौरान बड़ी तादाद में महिलाएं सामान ख़रीदने के लिए निकलीं

हालांकि चरमपंथी संगठन हमास ने मिस्र में हुए ऐसे किसी समझौते से इनकार किया है, लेकिन इसके लिए कोशिशें जारी हैं.

इससे पहले, इसराइली सुरक्षा बलों ने कहा था कि गुरुवार को संक्षिप्त संघर्ष विराम के दौरान फ़लस्तीनी चरमपंथियों ने गज़ा से कम से कम तीन रॉकेट दागे.

चरमपंथी गुट हमास और इसराइल गुरुवार को पांच घंटे के लिए संघर्ष रोकने पर राज़ी हुए थे ताकि गज़ा के लोग अपने लिए खाने-पीने का ज़रूरी सामान ख़रीद सकें.

अब तक 227 मौतें

गज़ा के अधिकारियों का कहना है कि पिछली आठ जुलाई से इसराइली हमलों में अब तक 227 फ़लस्तीनी मारे गए हैं. हमास के रॉकेट हमले में एक इसराइली नागरिक मारा गया है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption इसराइल ने हमास के हमलों का जवाब देने के लिए अभियान चलाया है

फ़लस्तीन से हो रहे रॉकेट हमलों के ख़िलाफ़ इसराइल ने अपना अभियान आठ जुलाई को शुरू किया था.

हमलों को लेकर इसराइल और हमास अलग-अलग दावे करते रहे हैं.

जहां इसराइल ने फ़लस्तीनी चरमपंथियों पर लगातार रॉकेट हमलों का आरोप लगाया है, वहीं हमास टीवी ने दावा किया है कि दक्षिणी गज़ा के रफ़ाह में इसराइल ने रॉकेट दागे हैं.

इससे पहले, इसराइली सेना ने कहा था कि संघर्ष विराम के दौरान यदि उस पर हमला हुआ तो वह इसका 'तुरंत जवाब' देंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार