इन्हें ठहराया गया 20 लाख लोगों का क़ातिल

नुऑन चिया और खियू संफान इमेज कॉपीरइट AP

कंबोडिया में ख़मेर रूज़ शासन के नेताओं नुऑन चिया और खियू संफान को अदालत ने मानवता के ख़िलाफ़ अपराध के लिए उम्रक़ैद की सज़ा सुनाई है.

युद्ध अपराधों के लिए संयुक्त राष्ट्र समर्थित एक ट्रिब्यूनल ने दोनों को यह सज़ा सुनाई है.

20 लाख मौतों के जिम्मेदार नेताओं को उम्रक़ैद

नुऑन चिया

नुऑन चिया का जन्म एक किसान के घर हुआ और उनकी मां कपड़े सिलती थीं. तानाशाह पोल पॉट शासन में उन्हें दूसरे नंबर पर माना जाता था.

अभियोजन पक्ष के मुताबिक़ नुऑन चिया शहरियों को ग्रामीण इलाक़ों में मजदूरी करने भेजने और भूखे मरने को मजबूर करने वाली नीतियां बनाने वाले समूह में थे.

इमेज कॉपीरइट AFP

ख़मेर रूज़ के पतन के बाद वह लड़ाकों के साथ उत्तर-पश्चिम कंबोडिया चले गए.

साल 1998 में उनको प्रधानमंत्री हुन सेन ने शांति समझौते के तहत माफ़ी दी थी.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

हालांकि अंतरराष्ट्रीय दबाव के बाद उन्हें 2007 में गिरफ़्तार कर लिया गया.

2011 में उनके ख़िलाफ़ मुक़दमा शुरू होने के बाद एक सह-अभियोक्ता एंड्रू केली ने कहा था, ''कंबोडियाई समाज के सभी पहलुओं पर सत्ता के शीर्ष नेताओं का नियंत्रण भयावह और व्यापक था."

नुऑन चिया ने अपने ख़िलाफ़ लगे सभी आरोपों से यह कहते हुए इनकार किया था कि उन्होंने ख़मेर रूज़ को 'लोगों के साथ दुर्व्यवहार या हत्या करने, भोजन से वंचित रखने और कोई नरसंहार करने के लिए नहीं कहा.'

खियू संफान

इमेज कॉपीरइट AFP

खियू संफान 11 अप्रैल 1976 से 7 जनवरी 1979 के दौरान कंबोडिया के राष्ट्रपति थे.

वह कंबोडिया के दक्षिण-पूर्व स्थिति सवे रींग प्रांत में पले-बढ़े. 1950 के दौर में फ़्रांस में अपनी पढ़ाई के समय वह ख़मेर के वामपंथी छात्रों के समूह के प्रमुख सदस्य बन गए.

स्टीफ़न हेडेर और ब्रियन टिट्टेमोरे ने अपनी किताब 'सेवन कंडीडेट्स फ़ॉर प्रॉसीक्यूशन' में लिखा, "उन्होंने सार्वजिनक तौर पर क्रांति का विरोध करने वालों के ख़िलाफ़ क़दम उठाए और कथित विरोधियों के लिए बनी नीतियों का समर्थन किया."

इमेज कॉपीरइट Getty

लेकिन खियू ने अदालत में कहा, "यह कहना आसान है कि मुझे सब कुछ पता होना चाहिए था. मुझे हर चीज़ समझनी चाहिए थी और इसलिए मुझे हस्तक्षेप करना चाहिए था."

उन्होंने कहा, "क्या आप वाकई सोचते हैं कि मैं अपने लोगों के साथ ऐसा बर्ताव करना चाहता था? असल में मेरे पास कोई सत्ता नहीं थी."

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार