ग़ज़ा में 72 घंटे के संघर्ष विराम पर सहमति

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption ग़ज़ा में संघर्ष के कारण अब तक 1900 से ज़्यादा फ़लस्तीनी मारे गए हैं

एक वरिष्ठ इसराइली अधिकारी ने बीबीसी को बताया है कि इसराइल और फ़लस्तीनियों ने 72 घंटे के संघर्ष विराम का मिस्र का प्रस्ताव मान लिया है.

वरिष्ठ अधिकारी ने बताया है, ''अगर संघर्ष विराम का सम्मान किया जाएगा, तो हम कल काहिरा में अपना प्रतिनिधिमंडल भेजेंगे.''

मिस्र ने इसराइल और फ़लस्तीनी संगठनों से संघर्ष विराम मंज़ूर करने की अपील की थी.

इस कदम से दोनों पक्षों के बीच फिर से बातचीत का रास्ता खुल गया है.

मिस्र ने दोनों पक्षों से एक स्थायी शांति समझौते कि लिए बातचीत करने की पहल की थी.

इसराइली अधिकारी का कहना था, "पिछली बार मिस्र की मध्यस्थता से हुए 72 घंटे के संघर्ष विराम को हमास ने तोड़ दिया था और इसराइल पर कई रॉकेट दागे थे."

8 जुलाई को शुरू हुए इस संघर्ष में अब तक दो हज़ार से ज़्यादा लोग मारे गए हैं.

मरने वालों में 1900 से ज़्यादा फ़लस्तीनी हैं जिनमें संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक ज़्यादा संख्या आम लोगों की है.

वहीं इसराइल की तरफ़ तीन आम लोगों समेत 67 लोगों की जानें गई हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार