सुर्ख़ियों में ग़ज़ा, लेकिन बाक़ी मध्य पूर्व?

इराक़, शरणार्थी बच्चे इमेज कॉपीरइट Getty

हाल के दिनों में मध्यपूर्व की घटनाओं में ग़ज़ा का मुद्दा सुर्ख़ियों में था. जानिए इस दौरान मध्यपूर्व के बाक़ी हिस्सों में कौन सी महत्वपूर्ण घटनाएं हो रही थीं?

1. इराक़

इस्लामिक स्टेट (आईएस) ने सीरिया की सीमा और इराक़ में मोसूल के समीप सबसे बड़े बांध पर क़ब्ज़ा कर लिया.

संयुक्त राष्ट्र ने इराक़ की स्थिति को 'मानवीय त्रासदी' कहा है.

अभी लोगों का ध्यान पहाड़ी इलाक़ों में फंसे 40,000 यज़ीदी लोगों की तरफ़ है जिनको भोजन, पानी और घर के अभाव में तमाम मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.

2. सीरिया में गृह युद्ध

जुलाई के आख़िर में दावा किया गया था कि एक सप्ताह में तक़रीबन 1700 लोग मारे गए गए थे.

यह लड़ाई देश के मध्य में स्थित गैस फ़ील्ड और दमिश्क़ के पास क़लामाओं पहाड़ों के लिए हो रही है.

इमेज कॉपीरइट Getty

ऐसा कहा जा रहा है कि इसके लिए इस्लामिक स्टेट और नुसरा फ्रंट आपस में सहयोग कर रहे हैं.

अल-क़ायदा से निकले दोनों धड़ों के बीच लंबे समय के तालमेल से सीरिया के हालात पलट सकते हैं.

3.लेबनान की स्थिरता

सीरिया से भारी संख्या में शरणार्थी लेबनान आ रहे हैं और इसके कारण लेबनान की स्थिरता पर ख़तरा मंडरा रहा है.

इमेज कॉपीरइट AFP

पिछले हफ़्ते लेबनानी सुरक्षा बलों के 27 लोगों को आईएस और नुसरा फ़्रंट ने बंधक बना लिया.

ख़बरों के मुताबिक़ दोनों पक्षों के बीच होने वाले संघर्ष में कम से कम 40 लेबनानी सैनिक मारे गए थे.

4.लीबिया टूट के कगार पर

पिछले महीने लीबिया की राजधानी त्रिपोली में हिंसा के कारण तक़रीबन 200 लोगों की मौत हो गई और हवाई अड्डे को बंद करना पड़ा था.

इमेज कॉपीरइट EPA

विरोधी गुटों के बीच संयुक्त राष्ट्र के संघर्ष विराम से लोगों को अस्थायी राहत मिली है.

इस बीच बेनग़ाज़ी में इस्लामी चरमपंथियों ने पूर्व सैन्य जनरल ख़लीफ़ा हफ़्तेर के ख़िलाफ़ संघर्ष में सफलता का दावा किया है.

5. करीब आए रूस और ईरान

रूस और ईरान के बीच लंबे समय से अच्छे व्यापारिक और रक्षा संबंध रहे हैं.

हाल के दिनों में दोनों देशों के बीच 11 अरब पाउंड का बड़ा क़रार हुआ है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इससे रूस ईरान के कुल तेल उत्पादन का क़रीब आधा हिस्सा ख़रीद सकेगा.

रूस पर पश्चिमी प्रतिबंधों को देखते हुए इस समझौते को काफ़ी महत्वपूर्ण माना जा रहा है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार