इस्लामिक स्टेट से अधिक ख़तरनाक अल क़ायदा?

अमरीकी रक्षा मंत्री चक हेगल जनरल मार्टिन डेम्प्सी के साथ. इमेज कॉपीरइट EPA

अमरीकी रक्षा मंत्री चक हेगल ने इस्लामिक स्टेट के चरमपंथियों के बारे में बताते हुए कुछ ख़ास तरह के शब्दों का इस्तेमाल किया है.

उन्होंने इस्लामिक स्टेट के 'सब कुछ बर्बाद कर देने वाले रणनीतिक मंसूबों' को लेकर चेताया है. चक हेगल ने इस चरमपंथी गुट को इराक़ या अन्य जगहों पर 'अमरीकी हितों पर मंडरा रहा ख़तरा' करार दिया है और कहा कि ये 'हमारे देखे सुने से ऊपर' है.

क्या ये इस्लामिक स्टेट के ख़तरे का लापरवाही से बढ़ा चढ़ा कर किया गया आकलन है या चक हेगल सही कह रहे हैं?

रॉयल यूनाइटेड सर्विसेज़ इंस्टीट्यूट के सीनियर रिसर्च फेलो शशांक जोशी ने इस्लामिक स्टेट के ख़तरों का आकलन किया है.

यूरोपीय मुसलमान

पहले भी अमरीका ने कई तरह के प्रभावशाली चरमपंथी गुटों का सामना किया है. इनमें से कई तो अमरीकी हितों को नुकसान पहुँचाने में कामयाब रहे.

इन चरमपंथी गुटों में अल क़ायदा सबसे महत्वपूर्ण है जिसने कई मौक़ों पर अमरीका को चोट पहुँचाई है. इसके ठीक उलट इस्लामिक स्टेट ने अमरीकी ज़मीन पर कभी भी हमला नहीं किया है और केवल एक अमरीकी नागरिक, पत्रकार जेम्स फॉली की जान ली है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इस्लामिक स्टेट के साथ लड़ने वाले एक फ़्रांसीसी ने मई के महीने में ब्रसेल्स के यहूदी म्यूज़ियम में चार लोगों की जान ले ली थी लेकिन इसके पीछे 'आईएस' का हाथ होने को लेकर पक्के सबूत नहीं मिले.

इस्लामिक स्टेट के कैडर से हज़ारों यूरोपीय नागरिकों की संभावित वापसी वहाँ की सुरक्षा एजेंसियों के लिए गंभीर चुनौती पैदा कर दी है. लेकिन ये नई समस्या नहीं है.

नवंबर 2013 की शुरुआत में सुरक्षा विश्लेषक थॉमस हेगामर ने इशारा किया था कि आधुनिक इतिहास के किसी भी संघर्ष में यूरोपीय मुसलमानों की अब तक की सबसे बड़ी भागीदारी देखी जा रही है.

मामूली ख़तरा

इमेज कॉपीरइट AFP

जब तक कि हेगल के पास कोई ख़ुफ़िया जानकारी न हो, ऐसा लगता है कि इस्लामिक स्टेट के ख़तरे को बढ़ा चढ़ा कर पेश किया जा रहा है. यहाँ तक कि इराक़ में इरबिल और बग़दाद में मौजूद अमरीकी सुरक्षा बलों को मामूली ख़तरा है.

हेगल ने 'आसन्न' शब्द का इस्तेमाल किया है. शायद हेगल का इरादा आने वाले दिनों में होने वाले अमरीकी हमले की क़ानूनी औचित्य तैयार करना हो.

दूसरी तरफ़ इस बात को भी स्वीकार किया जाना चाहिए कि इस्लामिक स्टेट आधुनिक इतिहास का सबसे ताक़तवर जिहादी आंदोलन है. फ़्रांसीसी विदेश मंत्री के मुताबिक़ इस गुट के पास अरबों डॉलर और 10 से 17 हज़ार लड़ाके हैं जिनमें तक़रीबन दो हज़ार यूरोपीय हैं.

हाइब्रिड आंदोलन

इमेज कॉपीरइट AP

इस्लामिक स्टेट का दो देशों में 35 हज़ार वर्ग मील की ज़मीन पर नियंत्रण है. इराक़ी सेना से ज़ब्त किए गए आधुनिक अमरीकी हथियारों इनके क़ब्ज़े में है. यहाँ उन्हें सद्दाम हुसैन के वफ़ादार रहे पुराने अफ़सरों और कुछ सुन्नी क़बीलों का समर्थन हासिल है.

इसलिए इस्लामिक स्टेट को महज एक चरमपंथी समूह नहीं करार दिया जा सकता है. ये एक हाइब्रिड आंदोलन की तरह है जिसकी राष्ट्र निर्माण को लेकर कुछ इरादे हैं और एक पारंपरिक फौज भी है.

वे अल क़ायदा की तुलना में अधिक लचीले हैं, साजो सामान और ताक़त के लिहाज से भी उन्हें बढ़त हासिल है. इससे चोट पहुँचाने की उनकी ताक़त और बढ़ जाती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार