यूक्रेन के दौरे पर एंगेला मर्केल

जर्मन चांसलर, एंगेला मर्केल इमेज कॉपीरइट AFP

जर्मन चांसलर एंगेला मर्केल यूक्रेन के दौरे पर पहुंचने वाली हैं. वहीं रूस द्वारा भेजी गई राहत सामग्री वाले 100 लॉरियों के बिना इज़ाजत हिंसाग्रस्त पूर्वी यूक्रेन में प्रवेश किए जाने की पश्चिमी देशों ने कड़ी निंदा की है.

अमरीका और ब्रिटेन ने इसे यूक्रेन की संप्रभुता के लिए ख़तरा और एक उकसावे वाला क़दम बताया है और इन लॉरियों को वापस लिए जाने का आग्रह किया है.

हालांकि रूस ने कहा है कि अब और देर स्वीकार्य नहीं है.

राहत सामग्री लिए ये लॉरियां विद्रोहियों के क़ब्ज़े वाले लुहांस्क शहर में दाख़िल हो चुकी हैं.

लॉरियों के प्रवेश को लेकर संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद की आपात बैठक हुई है. लॉरियों के प्रवेश को यूक्रेन ने घुसपैठ क़रार दिया है.

आरोप

इमेज कॉपीरइट AFP

संयुक्त राष्ट्र में ब्रिटेन के राजदूत मार्क ल्याल ग्रांट ने कहा कि रूस के क़दमों से यूक्रेन की संप्रभुता का उल्लंघन होता है और उनका मानवीय सहायता से कोई लेना-देना नहीं है.

बैठक के बाद संयुक्त राष्ट्र में रूस के राजदूत विटेली चुर्किन ने पश्चिमी देशों पर सच को ग़लत तरीक़े से पेश करने का आरोप लगाया.

उन्होंने कहा, "सुरक्षा परिषद के कुछ सदस्यों को परवाह नहीं थी कि सैंकड़ों नागरिक मर रहे हैं. वे पूर्वी यूक्रेन की आपदा के प्रति चिंतित नहीं हैं. उन्हें मानवीय सहायता के लिए लेकर गए वाहनों के बेड़े से दिक़्क़त हो रही है."

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और जर्मनी की चांसलर एंगेला मार्केल ने चेतावनी दी है कि रूस यूक्रेन में एक ख़तरनाक स्थिति को भड़का रहा है.

व्हाइट हाऊस और यूक्रेनी सरकार ने राहत सामग्री का क़ाफ़िला भेजने की कार्रवाई को यूक्रेन की सम्प्रभुता का उल्लंघन क़रार दिया है.

पेंटागन ने कहा है कि रूस इस बहाने यूक्रेन में अतिक्रमण कर रहा है.

रेड क्रॉस शामिल नहीं

इमेज कॉपीरइट EPA

रेड क्रॉस ने कहा है कि इस मानवीय सहायता में वो किसी भी तरह शामिल नहीं है.

पूर्वी यूक्रेन में दोनेत्सक और लुहांस्क क्षेत्रों के निवासियों ने एक जनमत संग्रह करके ख़ुद को रूस का हिस्सा मान लिया है जबकि यूक्रेन और पशिचमी देशों का कहना है कि इन इलाक़ों पर यूक्रेन का अधिकार है. इसी कारण यूरोपीय देशों और अमरीका ने रूस पर कई प्रतिबंध भी लगाए हैं.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार