ग़ज़ा: हमास और इसराइल को क्या मिला?

ग़ज़ा में संघर्ष विराम की ख़ुशी मनाते लोग इमेज कॉपीरइट AFP

इसराइल और हमास के बीच हुए संघर्ष में 2000 से ज़्यादा लोग मारे गए, कई लोग बेघर हो गए और आर्थिक नुकसान जो हुआ सो अलग.

संघर्ष विराम तो हो गया लेकिन संघर्ष विराम को हासिल करने की क़ीमत को लेकर सवाल पूछे जा सकते हैं.

हमास से पूछा जा सकता है कि हालात तो अब भी संघर्ष शुरू होने से पहले जैसे ही हैं. इसराइल सरकार को ये बताना पड़ सकता है कि उसने अभियान हमास की निश्चित हार तक क्यों नहीं चलाया.

ग़ज़ा की ख़ुशी

हमास की रणनीति इसे एक जीत बताने की है.

हमास के प्रवक्ता समी अबु ज़ूहरी ने अपने लोगों से 'इस जीत का जश्न मनाने' को कहा. लेकिन स्थिति इतनी साफ़ नहीं है.

हालांकि सार्वजनिक रूप से ऐसे सबूत तो नहीं है लेकिन ये अनुमान है कि हमास की सैन्य क्षमता बुरी तरह कम हुई है.

इमेज कॉपीरइट AFP

इसने अपने सैकड़ों लड़ाकों और बड़े नेताओं को भी खोया है.

हमास का नुक़सान

मिस्र और इसराइल ने ग़ज़ा की सीमाओं पर जितना कठिन नियंत्रण किया है, उसे देखते हुए लगता है कि हमास को अपने हथियारों के नुक़सान की भरपाई में काफ़ी कठिनाई होगी.

इमेज कॉपीरइट AFP

ग़ज़ा में लोकतंत्र नहीं है इसलिए हमास को अपने नागरिकों के प्रति किसी तात्कालिक ज़वाबदेही को लेकर चिंता करने की ज़रूरत नहीं है.

लेकिन लोग फ़ैसले के दो बिन्दुओं को लेकर सवाल उठाएंगे.

पहला यह है कि हमास ने इसराइल के साथ संघर्ष शुरू ही क्यों किया, जबकि संघर्ष के बाद भी हालत पहले जैसी ही रहेगी.

इमेज कॉपीरइट EPA

दूसरा सवाल है सिर्फ़ बातचीत के लिए राज़ी होने के लिए लंबी चौड़ी शर्त रखना, जैसे कि ग़ज़ा में एक बंदरगाह के निर्माण की शर्त.

विषम संघर्ष

इसराइल में भी भले ही सरकार जीत का दावा करे, इस बात को लेकर कई सवाल हैं कि आख़िर हासिल क्या हुआ.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इसराइल में इस बात पर हताशा है कि कहीं ज़्यादा बेहतर सैन्य क्षमता को वह ऐसे हालात में तब्दील नहीं कर सका जो जीत की तरह कुछ ज़्यादा लगे.

वहीं हमास बातचीत में शर्त रखते हुए शामिल हुआ और उसने इस पूरे इलाके में सबसे बढ़िया साजोसामान से लैस सेना का प्रतिरोध करने की क्षमता दिखाई.

संघर्ष विराम का भविष्य

इमेज कॉपीरइट AFP

सच्चाई यह है कि अगर संघर्ष विराम को आगे बढ़ाना है तो दोनों पक्षों को निश्चित रूप से कुछ न कुछ रियायत देनी होगी.

दोनों पक्ष (जो कभी आमने-सामने नहीं मिलेंगे) अब भी एक दूसरे से नफ़रत करते हैं.

इसमें सबसे अच्छी बात जो कही जा सकती है वो ये है कि लड़ाई से बेहतर है कि वो बातचीत करें.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार