मौत की घाटी के रहस्य से पर्दा उठा

  • 30 अगस्त 2014

पढ़िए कुछ ऐसी बातें तो पिछले हफ़्ते तक हमें नहीं पता थीं.

1. मौत की घाटी (डेथ वैली) में खिसकते रहने वाले पत्थरों के पुराने रहस्य पर से पर्दा उठ चुका है. दरअसल हवा के ज़ोर से बर्फ़ के बड़े टुकड़ों पर दबाव बनने और उनके गतिशील होने से ये पत्थर सरकते हैं.

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें (साइंटिफिक अमेरिकन)

2. एक नए शोध के मुताबिक लंबे पुरुषों की शादी भले ही औसत और छोटे क़द वाले लोगों के मुक़ाबले जल्दी हो जाती है लेकिन उनका वैवाहिक जीवन लंबे समय तक नहीं चल पाता. अधिक जानकारी के लिए पढ़ें (डेली टेलीग्राफ)

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

3. जिस तरह आप किसी को जम्हाई लेते हुए देखकर जम्हाई लेने लगते हैं ठीक उसी तरह भेड़िए भी साथी भेड़ियों को ऐसा करते देख ख़ुद भी ऐसा ही महसूस करने लगते हैं. अधिक जानकारी के लिए पढ़ें (स्मिथसोनियन)

4. लैपटॉप में लिखे गए नोट्स के मुकाबले हाथ से लिखे हुए नोट्स किसी वैचारिक सूचना के लिए ज़्यादा बेहतर साबित होते हैं. अधिक जानकारी के लिए पढ़ें (वॉशिंगटन पोस्ट)

इमेज कॉपीरइट Getty

5 हैलो किट्टी एक बिल्ली नहीं है बल्कि वह एक छोटी लड़की है. अधिक जानकारी के लिए पढ़ें (जेज़ेबेल)

6. किसी भी दूसरे देश के मुकाबले दक्षिण कोरिया में सबसे कम जन्म दर है और मौजूदा जन्म दर के लिहाज से वर्ष 2750 तक दक्षिण कोरिया के लोग विलुप्त हो जाएंगे. अधिक जानकारी के लिए पढ़ें (क्वार्ट्ज)

7. लंदन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन रियालिटी टीवी सितारों की दुनिया में मशहूर किम करदाशियां के 13वें चचेरे भाई हैं. अधिक जानकारी के लिए पढ़ें (डेली मेल)

इमेज कॉपीरइट Reuters

8. क़दमताल मिलाकर चलने से लोग अपने-आप को मज़बूत समझने लगते हैं और इसकी वजह से वे अलग फ़ैसले भी लेते हैं. अधिक जानकारी के लिए पढ़ें (इनसाइड साइंस)

9 लोगों की पसंदीदा धुनें चाहे वह किसी भी शैली की हो उससे असाधारण रूप से दिमाग़ में समान तरह की गतिविधि होने लगती है. अधिक जानकारी के लिए पढ़ें (स्मिथसोनियन)

10. सेलविन कॉलेज कैंब्रिज में छोटे पैरों वाले शिकारी कुत्ते की एक प्रजाति (बासेट हाउंड) को एक बड़ी बिल्ली के तौर पर दोबारा वर्गीकृत किया जा सकता है अगर यह पालतू पशु कॉलेज के शिक्षक से जुड़ा हो. सेलविन में कुत्तों पर प्रतिबंध है जबकि बिल्ली को यहां लाने की इजाज़त है.

अधिक जानकारी के लिए पढ़ें

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार