मानने लायक़ बातें मान ली गई हैं: शरीफ़

क़ादरी-इमरान-नवाज़ शरीफ़ इमेज कॉपीरइट AP

पाकिस्तान में प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ ने कहा है कि इमरान ख़ान और ताहिरूल क़ादरी की जो बातें मानने लायक़ थीं, वो मान ली गईं हैं.

लाहौर में पत्रकारों से बात करते हुए नवाज़ शरीफ़ ने कहा, ''इमरान ख़ान और ताहिरूल क़ादरी की असल मांगें जैसे प्रजातांत्रिक सुधार और चुनावों में धांधली की जांच के लिए न्यायिक आयोग का गठन मान ली गईं हैं.''

उन्होंने आगे कहा, ''उनकी दूसरी मांगें जैसे मेरा इस्तीफ़ा, संसद भंग करना, राज्यों की विधानसभाएं भंग करना वग़ैरह को पूरा करना मेरे अधिकार क्षेत्र में है ही नहीं.''

'कुर्सियों का समंदर'

इमरान ख़ान और ताहिरूल क़ादरी के संगठनों के ज़रिए कई दिनों से राजधानी इस्लामाबाद में चल रहे धरने के बारे में उन्होंने कहा कि ये एक दो दिन में ख़त्म हो जाएंगे.

इन धरनों के बारे में कटाक्ष करते हुए नवाज़ शरीफ़ ने कहा, ''आप देख सकते हैं कि इनमें लोग कितने हैं. किसी ने ख़ूब कहा है कि ये कुर्सियों का समंदर है.''

इस बीच पाकिस्तान में सरकार के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन जारी हैं.

शुक्रवार देर रात इमरान खान ने घोषणा की थी कि उनकी पार्टी धरना का दायरा बढ़ाएगी जिसके तहत लाहौर, कराची, फ़ैसलाबाद और मुल्तान में रैलियां निकाली जाएंगी.

इमेज कॉपीरइट EPA

पिछले दो हफ़्ते से क़ादरी समर्थक संसद के बाहर डेरा जमाए हैं और क़ादरी कई बार शरीफ़ के इस्तीफ़े की समय सीमा तय कर चुके हैं.

प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ से इस्तीफ़े की मांग को लेकर इमरान ख़ान ने 14 अगस्त को आज़ादी मार्च की शुरुआत लाहौर से की थी. धर्मगुरु ताहिरुल क़ादरी ने भी उसी दिन इंक़लाब मार्च शुरू किया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार