रूहानी ने इंटरनेट पर उदार होने को कहा

हसन रूहानी इमेज कॉपीरइट AP

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने ईरान के धार्मिक नेताओं से इंटरनेट और नई तकनीक के प्रति उदार रुख़ अपनाने को कहा है.

ईरानी टेलीविज़न पर दिए अपने भाषण में रूहानी ने कहा, यह बहुत अहम है कि नई पीढ़ी इंटरनेट का इस्तेमाल करें.

2013 में निर्वाचित हुए राष्ट्रपति ने मीडिया की आज़ादी के समर्थन में कसम खाई थी लेकिन उन्हें इसका विरोध झेलना पड़ा.

"अनैतिक और ग़ैर-क़ानूनी"

पिछले हफ़्ते प्रमुख ईरानी धार्मिक नेता अयातुल्लाह माकारिम शिराज़ी ने कहा कि मोबाइल इंटरनेट "अनैतिक और ग़ैर-क़ानूनी" है.

रूढ़िवादी धार्मिक नेता ने यह कहते हुए मोबाइल ब्रॉडबैंड सेवा का विरोध किया है कि इससे आपत्तिजनक तस्वीरें आसानी से एक-दूसरे तक पहुंच जाती है.

हाल के दिनों में सरकार ने तीन मोबाइल ब्रॉडबैंड कंपनियों को 3जी लाइसेंस दिया है लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि इन सेवाओं का इस्तेमाल करने वालों की संख्या अभी कम है.

राष्ट्रपति रूहानी ने जोर देकर कहा कि इंटरनेट विज्ञान की दुनिया से जुड़ने के लिए अहम है. उन्होंने कहा, "हम दुनिया के दरवाजें अपनी नई पीढ़ी के लिए बंद नहीं कर सकते हैं."

ईरानी सरकार ने 2009 में देशभर में इंटरनेट और मीडिया की आज़ादी के ख़िलाफ़ हुए प्रतिरोध के बाद फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर प्रतिबंध लगा दिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार