'वर्तमान रणनीति न चली तो ज़मीनी जंग संभव'

  • 16 सितंबर 2014
इमेज कॉपीरइट Reuters

इस्लामिक स्टेट के ख़िलाफ़ अगर वर्तमान अमरीकी रणनीति असफल होती है तो अमरीकी सैनिकों को भी युद्ध के मैदान में उतारा जा सकता है.

अमरीका के शीर्ष सैन्य जनरल मार्टिन डेम्पसी ने ये जानकारी दी है.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने पिछले हफ्ते जब आईएस के खिलाफ़ रणनीति की घोषणा की थी तब उन्होंने आईएस के ख़िलाफ ज़मीनी कार्रवाई के लिए अमरीकी सैनिकों की तैनाती से इंकार किया था.

डेम्पसी ने सीनेट समिति के सामने पेश होते हुए ये भी कहा है कि इराक़ी सेना का सैन्य सलाहकार के तौर पर साथ दे रहे अमरीकी सैनिक किसी समय इस्लामिक स्टेट के ख़िलाफ हमलों में सीधा भाग भी ले सकते हैं.

सीनेट की एक समिति को उन्होंने एक सीनेट समिति को बताया कि वे राष्ट्रपति बराक ओबामा से ऐसी सिफ़ारिश करेंगे.

राष्ट्रपति बराक ओबामा ने पिछले हफ्तेआईएस को हराने की रणनीति की घोषणा की थी जिसके तहत करीब सौ अमरीकी सैन्य सलाहकारों को इराक़ भेजा जा रहा है.

डेम्पसी का कहना था, '' स्पष्ट बात ये है कि अगर हम ऐसे बिंदु पर पहुंचते हैं जहां मुझे लगता है कि सैन्य सलाहकारों आईएस के ख़िलाफ़ इराक़ी सेना के साथ सीधा भाग लेना चाहिए, तो मैं इसकी राष्ट्रपति से सिफारिश करुंगा.''

रक्षा मंत्री हेगल का कहना था, '' हम लोग युद्ध की स्थिति में हैं आईएस के खिलाफ, अल कायदा के ख़िलाफ़''

'तोड़ो और नष्ट करो'

इमेज कॉपीरइट AFP

इससे पहले अमरीका ने कहा है कि था कि इस्लामिक स्टेट के खिलाफ़ राष्ट्रपति बराक ओबामा की ''तोड़ो और नष्ट करो'' की रणनीति के तहत पहले हवाई हमले किए गए हैं.

इस बीच इराक़ के मोसूल में इस्लामिक स्टेट के कब्ज़े को हटाने के लिए कुर्द सेनाएं नए हमले की तैयारी कर रही हैं. कुर्द सेना के साथ बीबीसी के जिम म्यूर भी हैं.

डेम्पसी ने बताया कि सीरिया पर हवाई हमले 'अचंभित करने वाले और अचानक' नहीं होंगे क्योंकि इस्लामिक स्टेट उस तरह से संगठित नहीं है.

अमरीकी अधिकारियों ने बताया कि ये हवाई हमले बगदाद के पास आईएस के ठिकानों पर किए और इन ठिकानों को नष्ट कर दिया गया.

इस बीच इराक के नए प्रधानमंत्री हैदर अल आब्दी ने दो नए मंत्री नियुक्त किए जिन्हें इराक़ी संसद ने वोटिंग के ज़रिए खा़रिज़ कर दिया. इन मंत्रियों के नामों का ख़ारिज़ होना आब्दी के लिए बड़ा झटका है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार