स्काटलैंड में प्रचार का अंतिम दिन

  • 18 सितंबर 2014

ब्रिटेन से अलग होने या साथ रहने के मुद्दे पर स्कॉटलैंड के लोग 18 सितंबर को वोट करने वाले हैं और प्रचार के आखिरी दिन दोनों पक्षों ने रैलियां कर के मतदाताओं से ज़ोरदार अपीलें की है.

स्कॉटलैंड की आज़ादी का समर्थन कर रहे लोगों ने ग्लासगो में एक बड़ी रैली की जिसमें लोगों से एक ‘समृद्ध स्काटलैंड’ के लिए वोट डालने की अपील की गई.

ठीक इसी समय स्कॉटलैंड को ब्रिटेन के साथ रखने वाले समर्थकों की भी एक रैली हुई जिसमें कहा गया कि आज़ादी के दावे की पूरी तरह से पैरवी नहीं हो पाई है.

मतदान से पहले आए सर्वेक्षणों में कहा गया है कि इस समय स्पष्ट रुप से किसी भी पक्ष की जीत नहीं दिख रही है.

यूनाइटेड किंगडम से अलग होने की वकालत कर रहे नेता एलेक्स सैलमंड ने मतदाताओं से कहा है कि स्वतंत्र स्कॉटलैंड अपनी मुद्रा पाउंड ही रखेगा और इस बारे में दूसरे ब्रितानी नेताओं से समझौता किया जाएगा.

स्कॉटलैंड को यूनाइटेड किंगडम के साथ रखने की वकालत कर रहे ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री गोर्डन ब्राउन ने मतदाताओं से कहा कि वो संकीर्ण राष्ट्रवाद का विरोध करें. उन्होंने चेतावनी दी कि स्कॉटलैंड अलग हुआ तो वो ऐसे आर्थिक दुष्चक्र में फंस सकता है जिससे निकलना मुश्किल होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार