ये लड़ाई सिर्फ़ अमरीका की नहीं: ओबामा

बराक ओबामा

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट के ख़िलाफ़ हवाई हमलों में अरब देशों के सहयोग की तारीफ़ की है.

उन्होंने कहा है, "यह सिर्फ़ अमरीका की लड़ाई नहीं है."

विपक्षी कार्यकर्ताओं का कहना है कि इन हवाई हमलों में कम से कम 70 आईएस चरमपंथी और अल क़ायदा से जुड़े 50 अन्य चरमपंथी मारे गए हैं.

सीरिया के अधिकारियों का कहना है कि हवाई हमलों से पहले उन्हें चेतावनी दी गई थी, लेकिन अमरीकी विदेश मंत्रालय ने इससे इनकार किया है.

साथ देने पर गर्व

राष्ट्रपति ओबामा ने हवाई हमलों में सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, जॉर्डन, बहरीन और क़तर के हिस्सा लेने या समर्थन देने की पुष्टि की.

उन्होंने कहा कि अमरीका को "इन देशों के साथ कंधा से कंधा मिलाकर खड़ा होने पर गर्व" है.

अमरीकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन का कहना है कि हमले में लड़ाकू विमानों में टॉमहॉक मिसाइलों का इस्तेमाल किया जा रहा है.

अमरीका अगस्त से अब तक इराक़ में आईएस पर क़रीब 200 हवाई हमले कर चुका है.

इस्लामिक स्टेट के जिहादियों ने सीरिया और इराक़ के बड़े भू-भाग कब्ज़ा किया हुआ है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)