मृत कछुए पर क्यों भिड़ीं सरकारें?

  • 23 सितंबर 2014
दुर्लभतम कछुआ इमेज कॉपीरइट AFP

दक्षिण अमरीकी देश इक्वाडोर की संघीय सरकार और उसी के प्रांत गालापागोस आईलैंड की सरकार के बीच दुर्लभतम प्रजाति के एक मरे हुए कछुए को लेकर विवाद छिड़ गया है.

गालापागोस के विशाल कछुए की 2012 में मौत हो गई थी और वो अपनी तरह का आखिरी जीव था.

लोनसम जार्ज नाम के इस कछुए का संरक्षित शव फिलहाल न्यूयॉर्क के एक संग्रहालय में है.

इक्वाडोर सरकार का कहना है कि इसके न्यूयॉर्क से वापस आने के बाद राजधानी क्वीटो में रखा जाए.

गालापागोस पार्क में 40 साल

लेकिन गालापागोस का कहना है कि ये कछुआ गालापागोस का प्रतीक है इसलिए उसे आईलैंड पर ही रखा जाना चाहिए.

गालापागोस के मेयर ने बताया कि सांता क्रूज के गालापागोस नेशनल पार्क में जार्ज ने अपनी ज़िंदगी के 40 साल बिताए हैं.

इमेज कॉपीरइट AMNH

हंगरी के वैज्ञानिक ने जार्ज को पिंटा आईलैंड पर 1971 में खोजा था.

इसकी खोज ने शोधकर्ताओं को चौंका दिया था. क्योंकि वे मान रहे थे कि पिंटा आईलैंड के कछुए विलुप्त हो चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार