आईएस की तेल रिफ़ायनरी पर हमले

  • 26 सितंबर 2014
इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका के रक्षा मंत्रालय ने इस्लामिक स्टेट के नियंत्रण वाले तेल शोधन संयंत्रों पर हवाई हमलों की तस्वीरें जारी की हैं.

इन तस्वीरों में हमले से पहले और बाद का विनाश दिखाई दे रहा है.

इससे पहले अमरीका, सऊदी और संयुक्त अरब अमीरात ने हवाई हमलों में सीरिया के 12 रिफ़ाइनरी को निशाना बनाया. इन पर इस्लामिक स्टेट के चरमपंथियो का कब्ज़ा था.

हाल के महीनों में आईएस ने इराक और सीरिया के अधिकांश हिस्सों को अपने नियंत्रण में ले लिया था.

हमले में शामिल देशों का मानना है कि कच्चे तेल की तस्करी से ही इन चरमपंथियों को आर्थिक मदद मिलती है और इस धन का इस्तेमाल चरमपंथी दोनों देशों में अपने हमले कर पाते है.

इमेज कॉपीरइट us defense

अमरीकी रक्षा मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को अमरीकी हवाई हमलों की तस्वीरें जारी की. जिरबी रिफ़ाइनरी के अलावा जिबीबी रिफ़ाइनरी पर भा हमला किया गया.

अमरीकी सेना का कहना है कि इन तेल रिफ़ाइनरी से इस्लामिक स्टेट को रोज़ाना तकरीबन 12 करोड़ रुपए की आय होती है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

अमरीकी सेना के मुताबिक़ इन छोटे पैमाने वाली रिफ़ाइनरी से 'रोज़ाना लगभग 300 से 500 बैरल तक तेल का उत्पादन' होता है.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए बुधवार को इस्लामिक स्टेट को 'मौत का नेटवर्क' बताया था. साथ ही ओबामा ने उसे ध्वस्त करने की प्रतिबद्धता जताई है.

अमरीका अगस्त से इराक मे इस्लामिक स्टेट के ठिकानों पर अब तक दो सौ से ज़्यादा हवाई हमले कर चुका है और सोमवार से उसने इन हमलों का दायरा सीरिया तक बढ़ा लिया है.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार