हांगकांग में हंगामा क्यों है बरपा?

  • 30 सितंबर 2014
हांगकांग इमेज कॉपीरइट AP

हांगकांग की सड़कों पर उतरे हज़ारों प्रदर्शनकारी चीनी सरकार के चेतावनी के बावजूद सड़कों पर डटे हुए हैं. आइए जानते हैं इस प्रदर्शन से जुड़े कुछ अहम सवालों के जवाब.

क्यों नाराज़ है लोग?

प्रदर्शनकारी 2017 के चुनाव में चीनी सरकार की ओर से दिए जाने वाले सीमित लोकतांत्रिक अधिकार को लेकर नाराज़ है.

यह एक सविनय अवज्ञा आंदोलन है जिसे 'ऑक्यूपाई सेंट्रल' के लोकतंत्र समर्थक कार्यकर्ताओं ने शुरू किया.

हांगकांग के छात्रों ने सितंबर के आखिर में कक्षाओं का बहिष्कार कर एक अलग आंदोलन खड़ा किया और जब उनका आंदोलन सरकार के ख़िलाफ़ ज़्यादा आक्रोशित हुआ तो 'ऑक्यूपाई सेंट्रल' अपने अभियान से पीछे हट गया.

क्या हैं इस आंदोलन के इतने तीव्र होने का कारण?

इमेज कॉपीरइट AFP

सड़कों पर उतरे हांगकांग के दसियों हज़ार आम नागरिकों में ज़्यादातर नौजवान हैं.

ऑक्यूपाई सेंट्रल का कहना है कि इस आंदोलन के पीछे कोई एक समूह नहीं है. प्रदर्शनकारी पुलिस की चेतावनी और आंसू गैस छोड़ने के बावजूद हटने के लिए तैयार नहीं है.

कितना हिंसक हो सकता है ये आंदोलन?

इमेज कॉपीरइट AFP

ज़्यादातर प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि प्रदर्शन के दौरान शांतिपूर्ण और सहयोगात्मक माहौल है लेकिन आगे इसकी स्थिति पुलिस की भीड़ पर होने वाली कार्रवाई पर निर्भर करेगी.

ऑक्यूपाई सेंट्रल ने जोर देकर कहा कि यह एक अहिंसक आंदोलन है लेकिन विरोध-प्रदर्शन में छात्रों की बढ़ती भागीदारी से ये परिदृश्य बदल भी सकता है.

क्या विरोध से चीन का इरादा बदल सकता है?

हांगकांग में स्थानीय लोगों के पास प्रत्यक्ष तौर पर सरकार चुनने का अधिकार नहीं होने के बावजूद अभिव्यक्ति और विरोध का अधिकार है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

हांग कांग को पूरी आज़ादी देने का अर्थ है चीन पर उसके प्रशासन में पूरी तरह से उलटफेर. और ये संभव नहीं है कि चीन इसे स्वीकार कर ले.

क्योंकि जहां तक चीन का सवाल है ये उसके लिए एक ख़तरनाक शुरुआत हो सकती है.

क्या सभी लोग प्रदर्शनकारियों से सहमत है?

नहीं ऐसा नहीं है. हांगकांग में कई तरह के विचार वाले लोग हैं जिनके बारे में विश्लेषकों का कहना है कि उनका तेज़ी से धुव्रीकरण हुआ है.

लोकतंत्र समर्थक कार्यकर्ता राजनीतिक सुधार और लोकतांत्रिक तरीके से चुनाव चाहते हैं जो अंतरराष्ट्रीय मापदंड के अनुरूप हो.

लेकिन हांगकांग एक व्यावसायिक मानसिकता वाला शहर भी है और जिसकी वजह से वे सविनय अवज्ञा में शामिल होकर चीन को नाराज़ नहीं करना चाहेंगे.

कौन है प्रदर्शन के पीछे?

इमेज कॉपीरइट Getty

ऑक्यूपाई सेंट्रल ने इस मुहिम में मुख्य भूमिका निभाई है. इसके नेता हैं क़ानून के प्रोफेसर बेनी ताई, समाजशास्त्री चान कीन-मैन और चर्च मिनिस्टर यु-मिंग.

इसे हांगकांग के कई राजनीतिक दलों का समर्थन प्राप्त है. लेकिन पिछले हफ़्ते छात्र नेता एलेक्स चाउ और लेस्टर शुम सामने निकल कर आए हैं.

जोशुआ वांग जो कि 'देशभक्ति पढ़ाने वाली शिक्षा' के ख़िलाफ़ हुए आंदोलन के संचालक थे, वे भी हालिया आंदोलन की एक ताकत है.

चीन के सामने सबसे बड़ा ख़तरा क्या है?

चीन ऐसा कोई आंदोलन नहीं चाहता है जो उनके लिए चुनौती बने और ना ही वे ये चाहते हैं कि लोकतंत्र की मांग की आगे हांगकांग से चीन तक आ पहुंचे.

चीन ने आंदोलन की कड़ी निंदा की है.

तो अब क्या होने वाला है?

इमेज कॉपीरइट AFP

प्रदर्शनकारी आंदोलन से हटने को तैयार नहीं है. 2017 में प्रत्यक्ष चुनाव कराने के लिए हांगकांग सरकार को काउंसिल के सामने समर्थन के लिए राजनीतिक सुधार का खाका प्रस्तुत करना होगा.

लोकतंत्र समर्थक सांसदों का कहना है कि वे चीनी फैसले पर आधारित किसी भी प्रस्ताव को समर्थन नहीं देंगे.

अगर प्रत्यक्ष चुनाव कराने के प्रस्ताव को मंजूरी नहीं मिलती है तो हांगकांग में पहले की तरह ही चुनाव होंगे जिसमें 1200 लोगों की एक समिति होगी और जिसके सदस्य चीन समर्थक होंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार