पश्चिम में इबोला फैलने की 'आशंका कम'

इबोला इमेज कॉपीरइट AP

विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि अमरीका और अन्य पश्चिमी देशों में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं के कारण इबोला वायरस के बड़े पैमाने पर फैलने की आशंका नहीं है.

इससे पहले अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी कहा है कि अमरीकी नागरिकों के इबोला से संक्रमित होने का ख़तरा 'काफ़ी कम' है.

हालांकि उन्होंने इससे निपटने के लिए मुस्तैदी के कदम उठाने के आदेश दिए हैं.

जानलेवा इबोला वायरस के संक्रमण से अब तक 4,500 लोगों की मौत हो चुकी है. इसके ज़्यादातर मामले लाइबेरिया, सियेरा लियोन और गिनी जैसे पश्चिम अफ्रीकी देशों में सामने आए हैं.

मौजूदा संकट पर विचार-विमर्श के लिए यूरोपीय संघ के स्वास्थ्य मंत्रियों की बैठक ब्रसेल्स में हो रही है.

खतरा बेहद कम

डब्लूएचओ के रणनीतिक निदेशक क्रिस्टोफर डे ने कहा है कि अमरीका या पश्चिम यूरोप के देशों तक इबोला का पहुंचना गंभीर चिंता का विषय है.

इमेज कॉपीरइट AKRON PUBLIC SCHOOL
Image caption स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार अंबर विंसन को अभी हवाई सफर नहीं करना चाहिए था.

लेकिन उन्होंने ये भी कहा, "उत्तरी अमरीका और पश्चिमी यूरोप, जहां स्वास्थ्य सुविधाएं काफ़ी मजबूत हैं, वहां इबोला के बड़े पैमाने पर फैलने का ख़तरा नहीं है."

उधर, ब्रिटेन, कनाडा और अमरीका ने अपने हवाई अड्डे पर पश्चिम अफ्रीका से आने वाले यात्रियों की जांच बढ़ा दी है.

अमरीका इस बात की जांच कर रहा है कि टेक्सस में इबोला के मरीज का इलाज करते हुए संक्रमित हुई नर्स अंबर विंसन को विमान से सफर करने की अनुमति कैसे मिली.

अधिकारी उन यात्रियों का भी पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं जिन्होंने नर्स के साथ हवाई सफ़र किया है.

टेक्सस राज्य में लाइबेरियाई व्यक्ति थॉमस डंकन की इबोला से मौत हो गई थी. नर्स नीना फाम और अंबर विंसन उनके इलाज के दौरान संक्रमित हो गई थीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार