नेपाल हादसाः बचाव अभियान का आख़िरी दिन

नेपाल हादसा, राहत और बचाव कार्य इमेज कॉपीरइट Reuters

नेपाल में बचाव के काम में जुटी टीम ने कहा कि वह बर्फ़ीले तूफ़ान की चपेट में फंसे लोगों की तलाश का आख़िरी प्रयास कर रहे हैं.

यह नेपाली सेना और निजी हेलिकॉप्टरों से हादसे में लापाता लोगों की तलाश का पांचवा दिन है.

नेपाल में हाल के वर्षों में ट्रैकिंग के दौरान होने वाले इस सबसे बड़े हादसे में कितने लोग लापता हैं, यह अभी स्पष्ट नहीं है.

इस हादसे में कम से कम 39 लोगों की मौत हुई है और क़रीब 400 लोगों को अन्नपूर्णा सर्किट से सुरक्षित बाहर निकाला गया है.

हादसा

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption बर्फ़ीले तूफ़ान में लापता लोगों की तलाश का रविवार को आख़िरी दिन है.

काठमांडू में मौजूद बीबीसी संवाददाता एंड्रयू नार्थ ने कहा कि बर्फ़ में दबे शवों को निकालने और हादसे में फंसने वाले लोगों के बारे में सूचनाएं देने की तरफ़ ज़्यादा ध्यान केंद्रित किया जा रहा है.

अधिकारियों का कहना है कि हादसे के मृतकों और बचने वाले लोगों की एक सूची देना चाहते हैं ताकि किसी उलझन वाली स्थिति को साफ़ किया जा सके.

इस हादसे में मरने वाले पर्वतारोहियों में नेपाल, भारत, जापान, स्लोवाक, इसराइल, पोलैंड, वियतनाम और कनाडा के नागरिक हैं.

एक ट्रेकिंग विशेषज्ञ ने बीबीसी को बताया कि पिछले एक दशकों में यह सबसे ख़तरनाक बर्फ़ीला तूफ़ान था. तक़रीबन 12 घंटे के भीतर 1.8 मीटर बर्फ़बारी हुई.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार