कनाडा: एक सुरक्षाकर्मी, एक हमलावर की मौत

  • 23 अक्तूबर 2014
कनाडा में वॉर मेमोरियल इमेज कॉपीरइट AFPGetty

कनाडा की राजधानी ओटावा में हुई गोलीबारी में एक सुरक्षाकर्मी की मौत हो गई है.

जबकि एक बंदूक़धारी भी मारा गया है. कनाडा पुलिस ने एक सुरक्षाकर्मी और एक बंदूक़धारी की मौत की पुष्टि कर दी है. कनाडाई अधिकारियों के अनुसार बंदूक़धारी का नाम माइकल ज़िहाफ़ बेब्यू है और वो कनाडा का नागरिक है.

अधिकारियों के अनुसार वो पहले से एक संदिग्ध था और उसका पासपोर्ट भी ज़ब्त किया जा चुका था.

हमले की शुरूआत बुधवार की सुबह ठीक 9:52 पर हुई जब एक बंदूक़धारी कनाडा के वॉर मेमोरियल पर तैनात एक सुरक्षाकर्मी को गोली मारकर पास ही स्थित संसद भवन में घुस गया.

वहाँ उनके और पुलिस के बीच गोलीबारी हुई है. पुलिस ने एक बंदूक़धारी को मार दिया लेकिन उनके अनुसार इस हमले में एक से ज़्यादा लोग शामिल हो सकते हैं.

संसद के भीतर बंदूक़धारी की गोली से किसी के मारे जाने की कोई ख़बर नहीं है.

पुलिस अन्य संदिग्धों की तलाश कर रही है. पुलिस ने घटनास्थल के आस-पास के लोगों से खिड़की और छत से दूर रहने को कहा है.

नरेंद्र मोदी का ट्वीट

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कनाडा में हुए हमले की निंदा की है. उन्होंने ट्वीट किया है, ''संसद में फ़ायरिंग चिंताजनक. सबकी कुशलता की प्रार्थना करता हूं.''

कनाडा के एक पूर्व सांसद गुरबख़्श सिंह मल्ही उस समय संसद जा रहे थे लेकिन उनकी गाड़ी को पहले ही रोक दिया गया. संसद से केवल तीन इमारत के फ़ासले पर स्थित कनाडा की सुप्रीम कोर्ट की पार्किंग में अपने कार में बैठे हुए बीबीसी से फ़ोन के ज़रिए बात की. स्थानीय मीडिया के हवाले से उन्होंने बताया कि हमलावर सफ़ेद रंग का कपड़ा अपने सिर पर बांधे हुए थे.

प्रधानमंत्री 'सुरक्षित'

हमले के समय प्रधानमंत्री स्टीफ़न हार्पर संसद में ही थे और कैबिनेट की बैठक कर रहे थे. उनके संचार निदेशक के अनुसार उन्हें वहां से सुरक्षित निकाल लिया गया. बाद में प्रधानमंत्री हार्पर ने इसे घृणित हमला क़रार दिया.

इमेज कॉपीरइट
Image caption बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री स्टीफ़न हार्पर सुरक्षित संसद से निकल गए हैं

कनाडा के सांसद मार्क गर्नेउ ने बीबीसी को बताया, "ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि हमलावर एक से ज़्यादा हैं. वे कई हो सकते हैं." उन्होंने बताया कि उनके अलावा कुछ और सांसदों को वहाँ से बचाकर बाहर निकाल लिया गया है.

जब वॉर मेमोरियल के पास गोलीबारी हुई ठीक उसी समय पास ही स्थित एक शॉपिंग सेंटर के बाहर भी गोलियाँ चलने की बात कही गई थी. लेकिन बाद में पुलिस ने कहा कि इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है.

पुलिस ने शहर में कई इमारतों को बंद कर दिया गया है. पास ही स्थित ओटावा विश्वविद्यालय को बंद कर दिया गया है. इसके अलावा अमरीकी दूतावास और सभी स्थानीय पुलिस इमारतों को भी सुरक्षित करके बंद कर दिया गया है.

बंदूक़धारियों के बारे में अभी तक कोई जानकारी नहीं मिल सकी है कि वे कौन थे या किस संगठन से उनका संबंध था.

इस घटना से कुछ ही घंटों पहले कनाडा ने चरमपंथी हमले के ख़तरे का स्तर 'कम' से बढ़ाकर 'मध्यम' कर दिया था.

एक सरकारी अधिकारी ने इससे पहले बताया था कि ख़तरे का स्तर बढ़ाने की वजह इस्लामिक स्टेट और अल-क़ायदा जैसे चरमपंथी गुटों के बीच ऑनलाइन चर्चा में आई तेज़ी है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption शूटिंग के बाद पुलिस ने घटनास्थल से घायलों को हटाया है

सरकार के प्रवक्ता ज्याँ क्रिस्टोफ़ डि ला रुए ने मंगलवार को कहा था कि ख़तरे का स्तर बढ़ाने का मतलब है कि 'ख़ुफ़िया सूचना के मुताबिक़ कनाडा या विदेश में किसी व्यक्ति या गुट की मंशा और क्षमता आतंकवादी गतिविधि को अंजाम देने की है.'

मंगलवार को क्यूबेक पुलिस के हाथों एक मुसलमान की मौत हो गई थी. पुलिस के अनुसार मुसलमान धर्म अपनाने वाले उस व्यक्ति ने जानबूझकर दो सैनिकों पर हमला किया था. उनमें से एक की मौत हो गई थी जबकि दूसरा घायल हुआ था.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप हमसे फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए