रैंकिंग के आड़े आती चीनी दीवार

सातवें से छठे स्थान पर पहुंची साइना इमेज कॉपीरइट AP

ताज़ा वर्ल्ड बैडमिंटन रैंकिग में लंदन ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता भारत की साइना नेहवाल सांतवें से छठे स्थान पर पहुंच गईं.

विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप में लगातार दूसरी बार कांस्य पदक जीतकर नया इतिहास रचने वाली भारत की ही पीवी सिंधू 10वें स्थान पर बनी हुई हैं.

साइना नेहवाल और पीवी सिंधू पिछले दिनों डेनमार्क ओपन में क्वार्टर फ़ाइनल तक पहुंची. पीवी सिंधू फ्रेंच ओपन में भी कुछ ख़ास नहीं कर सकीं.

भारत के पूर्व एशियन बैडमिंटन चैंपियन दिनेश खन्ना कहते हैं कि दोनों को कड़े संघर्ष के बाद अपने से कहीं अधिक रैंकिंग वाले खिलाड़ियों से हारना करना पड़ा.

इमेज कॉपीरइट AFP

दिनेश कहते हैं कि साइना का मनोबल अच्छा है लेकिन शायद भाग्य उनका साथ नहीं दे रहा.

साइना नेहवाल डेनमार्क ओपन में चीन की दूसरी वरीयता प्राप्त शिझियान वांग से हारी थीं.

फ्रेंच ओपन में भी साइना को इसी खिलाड़ी के हाथों क्वार्टर फाइनल में एक-एक अंक के लिए चले संघर्ष के बाद 21-19, 19-21, 21-15 से हार का सामना करना पड़ा.

युवा खिलाड़ी

वहीं भारत के बैडमिंटन कोच पुलेला गोपीचंद का मानना है कि पीवी सिंधू अभी काफ़ी युवा खिलाड़ी हैं और अनुभव के साथ उनकी कामयाबी भी बढ़ेगी.

वैसे दिनेश खन्ना मानते हैं कि पहले साइना और सिंधू को चीनी खिलाड़ियों की चुनौती का ही सामना करना पड़ता था. अब थाइलैंड, कोरिया और डेनमार्क की खिलाड़ी भी उन्हें चुनौती दे रही हैं.

पुरुष वर्ग में भारत के पी कश्यप सात पायदान की बेहतरी के साथ 21वें स्थान पर पहुंच गए हैं.

पिछले दिनों वे डेनमार्क ओपन के सेमीफ़ाइनल तक पहुंचे. उन्होंने तीसरी वरीयता हासिल डेनमार्क के जॉन ओ जोर्गेंसन को हराकर यादगार जीत हासिल की.

गलास्गो राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण जीतने के बाद कश्यप कुछ समय के लिए अपना फ़ॉर्म खो बैठे थे.

फ्रेंच ओपन के क्वार्टर फ़ाइनल में उन्हें बीते शुक्रवार को चीन की पांचवीं वरीयता हासिल झेंगमिंग से हारना करना पड़ा.

हालांकि उन्होंने पहले दौर में तीसरी वरीयता वाले जापान के केनिची टैगो को हराया.

कुल मिलाकर बैडमिंटन में बढ़ती रैंकिंग के बावजूद भारतीय खिलाड़ी अभी चीनी दीवार को नहीं तोड़ पा रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार