जाम्बिया के राष्ट्रपति का लंदन में निधन

जाम्बिया राष्ट्रपति माइकल साटा इमेज कॉपीरइट AFP

जाम्बिया के राष्ट्रपति माइकल साटा का मंगलवार को लंदन में निधन हो गया है.

वो काफ़ी समय से अज्ञात बीमारी से पीड़ित थे. जाम्बिया सरकार ने उनके निधन की पुष्टि की है.

77 वर्षीय माइकल साटा का इलाज लंदन के किंग एडवर्ड सप्तम अस्पताल में चल रहा था.

उपराष्ट्रपति गुई स्कॉट को उनकी जगह अस्थाई रूप से राष्ट्रपति बनाया गया है. वे श्वेत समुदाय से हैं.

अज्ञात बीमारी से पीड़ित

साटा 2011 में जाम्बिया के राष्ट्रपति चुने गए थे. अपनी तीखे बयानों के कारण वे 'किंग कोबरा' के नाम से मशहूर थे.

मंत्रिमंडल सचिव रोलैंड मसिसका ने सरकारी टेलीविजन पर कहा, "बड़े दुख के साथ बताना पड़ रहा है कि हमारे प्रिय राष्ट्रपति अब हमारे बीच नहीं रहे."

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption 2011 में राष्ट्रपति पद की शपथ लेते हुए माइकल साटा.

एक दिन पहले ही जाम्बिया ने ब्रिटेन से आजाद होने की अपनी 50वीं वर्षगांठ मनाई थी.

अक्टूबर महीने की शुरुआत में जाम्बिया में जारी कुछ रिपोर्टों के अनुसार राष्ट्रपति साटा मेडिकल चेकअप के लिए विदेश गए थे. तब उनके गंभीर रूप से बीमार होने की संभावना जताई जा रही थी.

माइकल साटा कार्यकाल के दौरान मरने वाले दूसरे राष्ट्रपति हैं. इससे पहले साल 2008 तत्कालीन राष्ट्रपति लेवी मवानावसा की पद पर रहते हुए मौत हुई थी.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फ़ेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार