हमने संघर्ष विराम नहीं किया: बोको हराम

अबुबकर शेकाउ इमेज कॉपीरइट AFP

चरमपंथी संगठन बोको हराम ने संघर्ष विराम पर सहमति जताने और अगवा 200 स्कूली छात्राओं को रिहा करने के नाइजीरिया सरकार के दावे को ख़ारिज किया है.

संगठन के प्रमुख अबुबकर शेकाउ ने कहा कि लड़कियों ने इस्लाम धर्म अपना लिया था और अगवा होने के बाद ही उनकी शादी करा दी गई थी.

नाइजीरियाई सेना ने 17 अक्टूबर को चरमपंथियों के साथ संघर्ष विराम की घोषणा करते हुए कहा था कि अगवा लड़कियों को जल्द रिहा करा लिया जाएगा.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption बोको हराम ने अगवा की गईं स्कूली छात्राओं को रिहा करने से मना कर दिया है.

शुक्रवार को जारी एक वीडियो में शेकाउ ने कहा, "हमने किसी के साथ संघर्ष विराम नहीं किया है और न हमारी किसी से बातचीत हुई है. यह सब झूठ है."

कथित संघर्ष विराम की ख़बरों के बाद भी हिंसा जारी रही और शुक्रवार को बम विस्फ़ोट की घटना हुई.

बोको हराम साल 2009 से संघर्षरत है और इस साल क़रीब 2,000 नागरिक मारे गए हैं.

क़रीब छह महीने पहले 200 से ज़्यादा स्कूली छात्राओं के अपहरण की घटना सामने आने के बाद बोको हराम की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर निंदा हुई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार