क़िताब, जो हर ईरानी के घर में मिलती है

ईरानी कवि हाफ़िज़ की मज़ार इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

ऐसा क्या है जो हर ईरानी के घर में पाया जाता है? इस पहेली का जवाब बहुत आसान है- चौदहवीं सदी के मशहूर कवि हाफ़िज़ शिराज़ी की कविताएं.

उनकी मौत के 600 साल बाद भी हाफ़िज़ शिराज़ी ईरान की पहचान को समझने-समझाने का बड़ा ज़रिया हैं.

हालांकि ईरानी घरों में इस्लाम धर्म का पवित्र ग्रंथ क़ुरान भी ज़रुर होता है शिराजी की किताब के अलावा.

पढ़ें डायना डार्के की रिपोर्ट

कहा जाता है कि ईरान में हर घर में दो किताबें ज़रूर मिलती हैं- हाफ़िज़ और क़ुरान. पहली पढ़ी जाती है और दूसरी नहीं.

इस मज़ाक़ को समझने के लिए आपको बस इतना भर करना है- ईरान के राष्ट्रीय नायक और 14वीं सदी के मशहूर कवि हाफ़िज़ शिराज़ी की मज़ार पर जाना है.

मज़ार गुलज़ार रहती है. माहौल ख़ुशनुमा और सुकून भरा.

इमेज कॉपीरइट ALAMY
Image caption फ़ारसी कवि हाफ़िज़ को ईरान में राष्ट्रीय नायक जैसा दर्जा हासिल है

दिन हो या रात मज़ार के चबूतरे बेहद सुंदर तरीक़े से सजे रहते हैं, इसके चारों तरफ़ गुलाब का बाग़ है, फ़व्वारे हैं और संतरों के पेड़ है.

मज़ार में सफ़ेद पत्थर के ताबूत पर लिखी हाफ़िज़ की कविताओं को श्रद्धालु गुनगुनाते हैं.

मशहूर मज़ार

हाफ़िज़ ईरान के पेचीदा सामाजिक व्यवस्था का प्रतिनिधित्व करते हैं. फ़ारसी भाषा में कहे गए उनके बेहतरीन मुहावरे ईरान के लोगों को एकता के धागे में पिरोते हैं.

लेकिन, एक अन्य वजह है जिसके चलते यह मज़ार इतनी मशहूर है.

आज के ईरान में सत्ता से बैर बेहद मुश्किल है. वह भी तब, जब धर्मगुरुओं की सत्ता पर मज़बूत पकड़ है.

ईरानी राष्ट्रपति हसन रुहानी की मुस्कराती तस्वीर दुनियाभर में उनकी एक नई छवि बनाती है, लेकिन ईरान में हर कोई मुझे बताता है कि हालात बहुत ख़राब हैं.

इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES

पहले के मुक़ाबले लोगों को अधिक सताया जा रहा है और उन्हें अधिक मौत की सज़ाएं हो रही हैं.

अलग शहर

लेकिन हाफ़िज़ की कर्मस्थली और ईरान के सबसे उदारवादी शहर शिराज़ की कहानी ही कुछ अलग है.

महिलाओं के फ़ैशन से ही शहर के मूड का पता चल जाता है. हालाँकि क़ानून के हिसाब से महिलाओं को ख़ुद को सर से लेकर पैर तक ढके रहने का नियम है, लेकिन शिराज़ में ईरान के इस मानक का बेहद ख़राब तरीक़े से पालन होता है.

इमेज कॉपीरइट AFP

सिर को कपड़े से ढकना अनिवार्य है, लेकिन यह बेहद रंग बिरंगा है. इसे सिर पर बहुत पीछे रखा जाता है और शायद ही इससे बाल ढकते हैं. बूढ़े और जवान, महिलाएं और पुरुष बिना किसी संकोच के मिलते हैं, हंसते हैं और एक-दूसरे से बात करते हैं.

मज़ार पर जब एक मशहूर अभिनेता सजदा करने पहुंचे तो हॉलीवुड की तर्ज़ पर उन्हें उनके प्रशंसकों ने घेर लिया.

बदला माहौल

सूरज डूबने के बाद मज़ार के चारों तरफ़ रोशनी की जाती है और माहौल किसी त्यौहार सा हो जाता है. लोग हाफ़िज़ के गीत गाने लगते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption ईरान में लड़कों के मुक़ाबले लड़कियां यूनिवर्सिटी से अधिक ग्रेजुएट हो रही हैं

यह माहौल ईरान के हालात के विरोधाभास पर पर्दा डालता है, लेकिन धर्मगुरुओं की 'सभी को शिक्षा' की नीति की बदौलत ईरान के समाज में बहुत बदलाव आया है.

यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट होने वालों में महिलाओं की संख्या पुरुषों से अधिक है. जन्मदर में तेज़ी से गिरावट आई है और अब अधिकतर लोग परिवार में एक बच्चा रख रहे हैं.

हालात ऐसे बन गए हैं कि धर्मगुरुओं को लोगों को अधिक बच्चे पैदा करने के लिए आर्थिक मदद की घोषणा तक करनी पड़ी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार