'नए शीत युद्ध के मुहाने पर है दुनिया'

  • 9 नवंबर 2014
मिख़ाइल गोर्वाचोफ़ इमेज कॉपीरइट Getty

पूर्व सोवियत संघ के अंतिम राष्ट्रपति मिख़ाइल गोर्बाचोफ़ का कहना है कि दुनिया एक और शीत युद्ध के मुहाने पर खड़ी है और रूस से बातचीत करके विश्वास बहाल किया जाना चाहिए.

बर्लिन की दीवार गिराए जाने की पचीसवीं बरसी पर आयोजित एक सामरोह में बोलते हुए 83 वर्षीय गोर्बाचोफ़ ने कहा, "पश्चिमी देशों ने अपनी कामयाबी की अति के आगे घुटने टेक दिए हैं."

उन्होंने कहा कि इसी वजह से वैश्विक शक्तियाँ यूगोस्लाविया, मध्य पूर्व और अब यूक्रेन के संघर्षों से निबटने में नाकाम रही हैं.

गोर्बाचोफ़ ने रूस के साथ बातचीत के ज़रिए विश्वास बहाल किए जाने और यूक्रेन संघर्ष को लेकर रूसी नेताओं और उद्योगपतियों पर लगाए गए प्रतिबंधों को हटाने पर भी ज़ोर दिया.

चेतावनी

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption गोर्वाचोफ़ बर्लिन की दीवार गिराए जाने के पच्चीस साल पूरे होने पर आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे.

उन्होंने मध्यपूर्व एशिया और यूरोप में जारी ताज़ा संघर्षों को चेतावनी क़रार दिया.

सोवियत संघ का हिस्सा रहे यूक्रेन को लेकर पश्चिमी देशों और रूस के बीच तनाव है.

रूस समर्थक लड़ाकों और यूक्रेन की सेनाओं के बीच जारी हिंसा में अब तक चार हज़ार से अधिक लोग मारे जा चुके हैं.

रूस समर्थक लड़ाकों ने पूर्वी यूक्रेन के दोनेत्स्क और लोहांस्क इलाक़ों पर क़ब्ज़ा कर लिया है.

सितंबर से एक नाज़ुक संघर्षविराम भी जारी है लेकिन पिछले हफ़्ते विद्रोहियों के नियंत्रण वाले इलाक़ों में हुए चुनाव के बाद फिर से हिंसा शुरू होने का ख़तरा बढ़ गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार