जहाज़ हादसा: कप्तान को 36 वर्ष की जेल

दक्षिण कोरिया कप्तान, नौका हादसा इमेज कॉपीरइट AFP

पिछले अप्रैल में दक्षिण कोरिया में जहाज़ दुर्घटना मामले में कप्तान को लापरवाही का दोषी पाया गया है. उन्हें 36 वर्ष के जेल की सजा सुनाई गई है.

सीवोल जहाज़ जिस समय डूबा उस पर 476 लोग सवार थे. इस दुर्घटना में 300 लोग मारे गए, जिनमें अधिकांश स्कूली विद्यार्थी थे.

दक्षिण कोरिया की सबसे भयावह इस समुद्री दुर्घटना के मामले में कप्तान ली जून-सिओक समेत चालक दल के 15 सदस्यों पर मुकदमा चलाया गया था.

इस हादसे में मरने वाले ज़्यादातर किशोर थे जो स्कूल ट्रिप पर थे.

अभियोजक ने जहाज़ के कप्तान पर जनसंहार का आरोप लगाया और फांसी की सजा की मांग की थी लेकिन न्यायाधीशों ने उन्हें इस आरोप से बरी कर दिया.

ग्वांगजू में मौजूद बीबीसी संवाददाता स्टीव इवान्स ने कहा, "लगता है कि अपने उम्र के साठवें दशक में जी रहे ली को सारी उम्र जेल में ही बितानी पड़ेगी."

हादसा

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption इस दुर्घटना में 300 से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई थी

जिस समय यह दुर्घटना हुई कप्तान ली डूबती जहाज़ को छोड़ते हुए कैमरे में कैद हो गए थे जबकि उसम अधिकांश यात्री जहाज़ में ही थे.

सुनवाई के दौरान ली ने लोगों को संकट में छोड़ने के लिए माफ़ी मांगी.

जहाज़ के मुख्य अभियंता पार्क को हत्या का दोषी पाया गया और उन्हें 30 वर्ष की सज़ा हुई जबकि चालक दल के 13 अन्य सदस्यों को 20 वर्ष तक की सज़ा हुई.

दुर्घटना में जहाज़ संचालकों की बदइंतजामी और बचाव कार्यों में खामियों का जब पता चला तो पूरे देश में असंतोष की लहर दौड़ गई.

इस फैसले के कुछ घंटे पहले दक्षिण कोरियाई सरकार ने डूबे हुए पोत से शवों को खोज निकालने का काम बंद करने की घोषणा की.

बचाव और राहत दलों ने 295 शव निकाल लिए थे लेकिन नौ लोगों के शव अभी तक नहीं मिले हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार