ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन के नए मुकाम तय

बराक ओबामा और शी जिनपिंग इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने बीजिंग में मुलाकात के बाद ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन के लिए नए लक्ष्य तय किए हैं.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने साल 2005 की तुलना में साल 2025 तक अमरीका में ग्रीनहाउस गैसों के स्तर को कम कर 26-28 फीसदी लाने का लक्ष्य रखा है.

चीन ने कोई खास लक्ष्य निर्धारित किए बिना साल 2030 तक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करने की बात कही.

तीन दिवसीय यात्रा पर चीन गए बराक ओबामा ने इस पहल को 'ऐतिहासिक' बताया है.

दोनों देशों ने हवाई और समुद्री क्षेत्रों में सैन्य दुर्घटनाओं की संभावनाओं को कम करने पर भी सहमति जताई है.

ओबामा ने दो दिनों के एशिया-प्रशांत आर्थिक सहयोग सगंठन यानी एपेक सम्मेलन में भाग लेने के बाद बुधवार को चीन के राष्ट्रपति से मुलाकात की.

सबसे प्रदूषित देश

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption चीन में आयोजित दो दिवसीय एपेक शिखर सम्मेलन 2014 मंगलवार को खत्म हुआ.

ऐसा पहली बार हुआ है कि दुनिया के सबसे प्रदूषित देश माने जाने वाले चीन ने उत्सर्जन कम करने की एक संभावित तिथि तय की है.

एक आंकलन के मुताबिक अमरीका और चीन मिलकर दुनिया के तकरीबन 45 फीसदी कार्बन डाईऑक्साइड का उत्सर्जन करते हैं.

अगले साल पेरिस में साल 2020 के बाद गैस उत्सर्जन कम करने पर वैश्विक सहमति बनाने के लिए कई देश मिलने वाले हैं. अमरीका और चीन की इस अप्रत्याशित घोषणा को उसी पहल को सुनिश्चित करने के एक कदम के रूप देखा जा रहा है.

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने कहा, "अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जलवायु परिवर्तन को सुनिश्चित करने से जुड़ी पहल पेरिस में अपने मुकाम पर पहुंचे, इसी उद्देश्य को पूरा करने के लिए हमने ये फैसला किया है."

बिजली उत्पादन और तेज आर्थिक विकास के लिए नए कोयला कारखानों की स्थापना के बाद से चीन का कार्बन उत्सर्जन लगातार बढ़ रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार