येरूशलम में धर्मस्थल पर हमला, चार की मौत

इमेज कॉपीरइट AFP

पश्चिमी येरूशलम में एक यहूदी धर्मस्थल में हुए हमले में कम से कम चार इसराइली नागरिकों की मौत हो गई है और आठ घायल हो गए हैं.

पुलिस के मुताबिक पूर्वी येरूशलम के दो फ़लस्तीनी लोगों ने पिस्तौल, चाकू और कुल्हाड़ियों के साथ हमला किया. बाद में उन्हें गोली मार दी गई.

येरूशलम में एक विवादित पवित्र स्थल को लेकर तनाव के चलते पिछले कुछ वक्त में कई घातक हमले और झड़पें हुई हैं.

इसराइली प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू ने येरूशलम में पिछले छह साल में हुए सबसे घातक हमले का 'पुरज़ोर' जवाब देने का ऐलान किया है.

निंदा

इमेज कॉपीरइट Reuters

एक बयान में नेतन्याहू ने कहा, "यह हमास और अबु माज़ेन ( फ़लस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास) के उकसावे का सीधा नतीजा है. उकसावा जिसे अंतरराष्ट्रीय समुदाय ग़ैर ज़िम्मेदारी से नज़रअंदाज़ कर रहा है".

फ़लस्तीनी गुट हमास और अब्बास की फ़तह पार्टी इस साल की शुरुआत में संयुक्त सरकार बनाने पर सहमत हो गई थीं, उस वक्त भी इसराइल ने इसकी निंदा की थी.

वहीं महमूद अब्बास के कार्यालय से जारी एक बयान में कहा गया है, "राष्ट्रति यहूदियों के पूजा स्थल पर भक्तों पर हमले और आम नागरिकों की हत्या की निंदा करते हैं, चाहे यह किसी का भी काम हो."

हमास और अन्य फ़लस्तीनी इस्लामिक चरमपंथी समूह, इस्लामिक जिहाद, ने हमले की तारीफ़ की है. इसराइल दोनों गुटों को 'आतंकवादी' संगठन मानता है.

अमरीकी विदेश मंत्री का कहना है कि यह "विशुद्ध रूप से 'आतंकी' घटना है... इंसानियत में इसकी कोई जगह नहीं है".

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार