उत्तर कोरिया ने दी परमाणु परीक्षण की धमकी

उत्तर कोरिया इमेज कॉपीरइट AFP

उत्तर कोरिया ने धमकी दी है कि अगर संयुक्त राष्ट्र वहाँ मानवाधिकार उल्लंघन के मामलों की जांच करेगा तो वह परमाणु परीक्षण कर सकता है.

उत्तर कोरिया के विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को अमरीका पर आरोप लगाया है कि हालिया संयुक्त राष्ट्र प्रस्ताव उसी ने तैयार करवाया है.

यह धमकी ऐसे समय में आई है जब सेटेलाइट तस्वीरों में उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षण केंद्र में हलचल नज़र आई है. उत्तर कोरिया ने 2006, 2009 और 2013 में परमाणु परीक्षण किए थे.

संयुक्त राष्ट्र की मानवाधिकार समिति ने मंगलवार को एक प्रस्ताव पारित कर सुरक्षा परिषद से कहा था कि वह उत्तर कोरिया को मानवता के खिलाफ़ कथित अपराधों के लिए अंतरराष्ट्रीय अपराध न्यायालय (आईसीसी) में प्रस्तुत करे.

'धमकी दुर्भाग्यपूर्ण'

इमेज कॉपीरइट AP

उत्तर कोरिया का कहना है कि यह प्रस्ताव भगोड़ों की 'मनगढ़ंत गवाहियों' पर आधारित है और 'उत्तर कोरिया को बदनाम करने की कोशिश है'.

उसने ये भी कहा, "प्रस्ताव को पारित करना अमरीका की 'राजनीतिक उकसावे' की कोशिश है और यह "छेड़छाड़ हमें मजबूर कर रही है कि हम एक और परमाणु टेस्ट की दिशा में बढ़ें."

इसके जवाब में अमरीका के विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा, "उत्तर कोरिया में मानवाधिकार की स्थिति पर अंतरराष्ट्रीय समुदाय का ध्यान देना जायज़ है और ऐसी कार्रवाई की धमकी यकीनन दुर्भाग्यपूर्ण है".

इससे पहले उत्तर कोरिया मानवाधिकार उल्लंघन के आरोपों का उल्लंघन से इनकार करता रहा है.

इमेज कॉपीरइट AFP

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में उत्तर कोरिया में 'अकथनीय अत्याचार' के आरोप लगाए गए हैं. इसके जवाब पिछले महीने उत्तर कोरिया के एक अधिकारी ने सार्वजनिक रूप से दिया था. इसमें उन्होंने बंदी शिविरों के अस्तित्व से इनकार करते हुए कहा कि वह सिर्फ़ नज़रबंदी केंद्र हैं.

हालांकि विश्लेषकों का कहना है कि इस बात की उम्मीद कम ही है कि सुरक्षा परिषद उत्तर कोरिया पर आईसीसी में मुकदमा चलाए क्योंकि इस प्रस्ताव के ख़िलाफ़ वोट करने वाले रूस और चीन सुरक्षा परिषद में भी हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार