कीनियाः अल-शबाब के 100 चरमपंथी मारे गए

  • 24 नवंबर 2014
केन्या बस हमला इमेज कॉपीरइट b

कीनिया के उपराष्ट्रपति के मुताबिक़ सुरक्षाबलों ने बस पर हुए हमले में शामिल अल-शबाब के सौ से ज़्यादा लड़ाकों को मार दिया है.

विलियम रूटो के अनुसार सैन्यबलों ने सोमालिया के भीतर किए ऑपरेशन में चरमपंथियों के उस अड्डे को भी तबाह कर दिया जहाँ बस पर हुए हमले की योजना बनाई गई थी.

शनिवार को उत्तरी कीनिया में हुए हमले में चरमपंथियों ने बस में सवार ग़ैर-मुस्लिमों को गोली मार दी थी.

इस हमले में 28 लोगों की मौत हुई थी. अल-शबाब के चरमपंथी 2011 के बाद से कीनिया में कई बड़े हमलों को अंजाम दे चुके हैं.

इसी साल कीनिया ने अल-शबाब के ख़िलाफ़ लड़ने के लिए अपने सैन्यबल सोमालिया भेजे थे.

सैन्य अभियान की जानकारी देते हुए रूटो ने कहा, "मैं आप को इस बात से आश्वस्त कर सकता हूँ कि हमलावर रात का खाना तक नहीं खा पाए."

"हमले के तुरंत बाद भेजे गए हमारे सैन्य अधिकारियों ने उन्हें मार दिया. उन्हें अपने जघन्य अपराध का जश्न मनाने का वक़्त भी नहीं मिला."

उन्होंने कहा कि स्थिति पूरी तरह सुरक्षाबलों के नियंत्रण में है.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अल शबाब के चरमपंथी 2011 के बाद से केन्या में हमले करते रहे हैं.

शनिवार को सोमालिया सीमा के नज़दीक मेन्डेरा काउंटी में हुए हमले में चरमपंथियों ने ग़ैर मुस्लिमों को अलग कर उनकी हत्या कर दी थी.

अल-शबाब ने इस हमले की ज़िम्मेदारी लेते हुए इसे कीनिया के तटीय शहर मोमबासा में मस्जिदों पर सैन्य कार्रवाई का बदला बताया था.

रूटो का कहना है कि पुलिस के ऐसे अभियान बंद नहीं होंगे. मोमबासा में पुलिस के खोजी अभियान के दौरान मस्जिदों से हथियार बरामद हुए थे.

रूटो ने कहा, "हम अपने धर्मस्थलों का इस्तेमाल हथियार जमा करने के लिए नहीं होने देंगे."

उन्होंने मुस्लिम नेताओं से कहा है कि वे ये सुनिश्चित करें कि मस्जिदें चरमपंथियों के हाथों में न जाएं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार