तक़रीबन एक करोड़ में बिकी 'हिटलर की पेंटिग'

  • 24 नवंबर 2014
हिटलर की पेंटिंग इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption माना जाता है कि हिटलर की पेंटिंग की कला गुणवत्ता बहुत सीमित है.

जर्मनी में एक नीलामी के दौरान वो पेंटिंग 1,61,000 डॉलर (क़रीब 99 लाख 32 हज़ार रुपये) में बिकी, जिसे माना जाता है कि एडोल्फ़ हिटलर ने बनाया था.

म्यूनिख हॉल की 1914 में बनी इस पेंटिंग को दो वृद्ध बहनों ने नीलामी के लिए रखा था. इनके दादा ने इन पेंटिंग्स को 1916 में ख़रीदा था.

नीलामी संस्था वील्डर ने कहा कि इन कलाकृतियों को मध्यपूर्व के एक व्यक्ति ने ख़रीदा है और उन्होंने अपना नाम गुप्त रखने को कहा है.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption इससे पहले हुई एक नीलामी की, नाज़ी नरसंहार में बचे लोगों के रिश्तेदारों ने आलोचना की थी.

विशेषज्ञ हिटलर की कलाकृतियों को आम तौर पर निम्न गुणवत्ता वाला मानते हैं.

यह नीलामी जर्मनी के न्यूरेम्बर्ग में आयोजित की गई थी.

नीलामी संस्था ने कहा कि चार महाद्वीपों के ख़रीदारों ने इसमें रुचि ज़ाहिर की थी.

संस्था के निदेशक कैथरीन वील्डर ने कहा कि इस पेंटिंग के साथ इसकी पहली ख़रीद का बिल भी सम्मिलित था, इसकी वजह से इस पेंटिंग की क़ीमत इतनी ऊंची हुई.

विवाद

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption पेंटिंग के नीचे हस्ताक्षर के रूप में 'ए हिटलर' लिखा देखा जा सकता है.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने वील्डर के हवाले से कहा कि बिक्री करने वाले इस धनराशि का 10 प्रतिशत अशक्त बच्चों की मदद करने वाली संस्था को दान देंगे.

इससे पहले हिटलर की कलाकृतियों की नीलामी में विवाद पैदा हो गया था और नरसंहार पीड़ितों के कुछ रिश्तेदारों ने इसकी आलोचना की थी.

कलाकार बनने की चाहत रखने वाले युवा हिटलर ने वियना एकेडमी ऑफ़ फ़ाइन आर्ट्स में प्रवेश लेने की अनुमति मांगी थी, लेकिन इसे अस्वीकार कर दिया गया था.

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption इस पेंटिंग की पहली ख़रीद का बिल भी नीलामी में शामिल था.

हिटलर 1933 से 1945 के बीच जर्मनी का सैन्य तानाशाह बन गए और उन्हें द्वितीय विश्वयुद्ध की शुरुआत करने वाला माना जाता है.

इसके कारण नाज़ी शासन में साठ लाख यहूदी लोगों का नरसंहार कर दिया गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार