यौन शोषण में डॉक्टर को 22 साल की क़ैद

  • 2 दिसंबर 2014
माइल्स ब्रैडबरी इमेज कॉपीरइट PA
Image caption डॉ. माइल्स ब्रैडबरी ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया था.

कैंसर विशेषज्ञ चिकित्सक माइल्स ब्रैडबरी को 18 मरीज़ों के बाल यौन शोषण के आरोप में 22 वर्ष की सजा हुई है.

ब्रैडरी ने कैम्ब्रिज के एडेनब्रुक्स अस्पताल में 2009 से 2013 के बीच बीमार बच्चों के इलाज के दौरान उनका यौन शोषण किया था.

यह मामला तब खुला जब एक बच्चे की दादी को इसका पता चला.

Image caption एक बच्चे ने बताया कि डॉ. माइल्स जोड़ों की जांच के बहाने कपड़े उतरवाते थे.

चिकित्सक को पिछले साल दिसंबर में गिरफ़्तार किया गया था और उनपर आरोप तय किए गए थे.

इसी वर्ष सितम्बर में ब्रैडबरी ने यौन उत्पीड़न के 25 मामलों में संलिप्त रहने और 16,000 अश्लील तस्वीरें रखने की बात स्वीकर की थी.

उनके द्वारा इलाज कराने वाले ज़्यादातर बच्चों की उम्र 10 से 16 वर्ष की थी और वे हीमोफ़ीलिया, ल्यूकीमिया और अन्य रोगों से ग्रस्त थे.

इनमें से कुछ बच्चों में बीमारी के लक्षण थे और परिवक्व होने के साथ उसके बढ़ने की संभावना थी. इसके लिए जननांगों और यौनिक विकास की निगरानी के लिए चिकित्सक की जरूरत थी.

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption यौन उत्पीड़न के अधिकांश मामले कैंब्रिज के एडेनब्रुक्स अस्पताल में हुए जहां ब्रैडबरी चिकित्सक थे.

अभियोजक पक्ष ने अदालत को बताया कि ब्रैडबरी की हरकतें मान्य हद से बाहर चले गए थे.

वो अपने मरीज की तस्वीरें लेने के लिए एक 'स्पाई पेन' का इस्तेमाल करते थे. इसमें 1,70,425 तस्वीरें पाई गईं.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

एक पीड़ित के बयान के अनुसार, "मुझे अब चिकित्सक के पास जाने में डर लगता है क्योंकि मुझे नहीं पता कि किस पर विश्वास किया जाए."

बयान के मुताबिक़, "मुझे हीमोफ़ीलिया है. मुझे पता है कि मुझे चिकित्सक के पास जाना चाहिए, लेकिन मैं बहुत अपमानित महसूस करता हूं."

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption माइल्स ब्रैडबरी वर्ष 2012 में स्विट्जरलैंड के एक 300 बच्चों वाले अनाथालय का दौरा करने वाली एक टीम में भी शामिल थे.

एक अन्य मरीज़ ने अपने बयान में कहा है, "मैं माइल्स ब्रैडबरी से मिलकर पूछना चाहता हूं कि उन्होंने मेरे साथ ऐसा क्यों किया."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार