असली की जगह छपी पुतले की तस्वीर

  • 3 दिसंबर 2014
प्रिंस विलियम्स की मोम की प्रतिमा इमेज कॉपीरइट Getty

जापान की एक प्रमुख समाचार एजेंसी ने माना है कि उसने प्रिंस विलियम की जो एक तस्वीर प्रकाशित की थी, वह असली नहीं, बल्कि उनके मोम के पुतले की थी.

जापान के दैनिक अख़बार असाही शिम्बुन के मुताबिक़ प्रेस फरवरी में प्रिंस विलियम की जापान यात्रा पर उनकी मुस्कुराती तस्वीर प्रकाशित करना चाहता था, लेकिन उस स्टोरी में मैडम तुसाद संग्रहालय में रखी प्रिंस विलियम के मोम के पुतले की तस्वीर प्रकाशित हो गई.

ये ग़लती ख़बर प्रकाशित होने के एक दिन बाद तक पकड़ में नहीं आई.

ग़लती का पता तब चला जब कर्मचारियों का ध्यान इस बात पर गया कि तस्वीर वैसी नहीं दिख रही, जैसा कि इसे लगाते वक़्त सोचा गया था.

जिजी प्रेस ने इस गलती का सुधार करते हुए कहा, "ये तस्वीर असली नहीं थी, बल्कि उनके मोम के पुतले की थी."

ये ग़लती एक कर्मचारी की लापरवाही से हुई, उसने तस्वीर के नीचे अंग्रेज़ी में लिखे शीर्षक को ध्यानपूर्वक नहीं पढ़ा, जिसमें लिखा था कि ये तस्वीर एक बेजान मोम से बने पुतले की है.

समाचार एजेंसी जिजी के संपादकीय विभाग ने इस ग़लती पर अपने पाठकों से माफ़ी मांगी है और कहा कि ''यह एक बहुत ही शर्मनाक भूल है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार