ज़िंदगी के आठ साल घटा देता है मोटापा

मोटापा इमेज कॉपीरइट Other

गंभीर रूप से मोटापे से ग्रस्त होना आपके जीवन से आठ साल घटा सकता है और आपकी सेहत को दशकों तक ख़राब कर सकता है.

एक विश्लेषण के बाद सामने आई रिपोर्ट में कहा गया है कि कम उम्र में मोटापे से ग्रस्त होना, सेहत और ज़िंदगी की अपेक्षाओं के लिए ज़्यादा हानिकारक होता है.

कनाडा स्थित मॉन्ट्रियल विश्वविद्यालय के विश्लेषकों के इस दल का कहना है हृदय रोग और टाइप-2 मधुमेह विकलांगता और मौत के प्रमुख कारण हैं.

इमेज कॉपीरइट PA
Image caption प्रोफ़ेसर स्टीवन ग्रोवर कहते हैं कि जितना अधिक वज़न होगा और जितनी कम उम्र होगी, सेहत पर उतना ही अधिक असर पड़ेगा.

विशेषज्ञों के अनुसार लोग मोटापे के परिणामों से अकसर 'अनजान' रहते हैं.

लेन्सेट डाइबिटीज़ एंड एन्डोक्रिनोलोजी की इस रिपोर्ट में 20 से 39 साल के ज़्यादा वज़न वाले लोगों के बीच तुलना की गई.

इसमें पता चला कि मोटापे की वजह से समान आयु वाले मर्द जहां अपनी ज़िंदगी के 8.4 साल खो देते हैं, वहीं महिलाएं 6.1 वर्ष ज़िंदगी खो देती हैं.

सेहत

इमेज कॉपीरइट AP

यदि 40 से 50 वर्ष के आयु वर्ग की बात करें, तो मोटापे के कारण पुरुषों के जीवन से 3.7 वर्ष कम हो जाते हैं और महिलाओं की ज़िंदगी के 5.3 वर्ष कम होते हैं.

अपने 60वें और 70वें दशक में जी रहे स्त्री-पुरुष मोटापे के कारण अपनी ज़िंदगी के केवल एक वर्ष ही नहीं गंवाते, बल्कि सात वर्ष तक ख़राब सेहत से भी परेशान रहते हैं.

इस निष्कर्ष पर प्रतिक्रिया देते हुए ब्रिटेन के चैरिटी हार्ट रिसर्च की जीवन शैली प्रबंधक बारबरा डिन्सडैल ने कहा कि ''हमें और कितनी चेतावनी की आवश्यकता है?''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार