अमरीका ने तालिबान नेता को पाक को सौंपा

पाकिस्तानी तालिबान कमांडर, लतीफ़ महसूद इमेज कॉपीरइट AP

अमरीका ने अफ़ग़ानिस्तान में पकड़े गए पाकिस्तानी तालिबान के एक बड़े कमांडर लतीफ़ महसूद को पाकिस्तान को सौंप दिया है.

ख़बरों के अनुसार अमरीका ने तीन पाकिस्तानियों को उनके देश को सौंपे जाने की पुष्टि की है, लेकिन महसूद को सौंपे जाने के बारे में कुछ नहीं कहा है.

उधर, पाकिस्तानी अधिकारियों का कहना है कि लतीफ़ महसूद को 'छोड़ दिया' गया है.

इन तीनों को अमरीका ने अफ़गानिस्तान के बगराम एयरबेस में रखा हुआ था.

संवाददाताओं का कहना है कि किसी बड़े तालिबान नेता को उसके देश को सौंपा जाना सामान्य बात नहीं है. इसे अफ़गानिस्तान-पाकिस्तान के संबंध सुधारने की कोशिश माना जा रहा है.

हालाँकि तालिबान कमांडरों को छोड़े जाने की शर्तों को सार्वजनिक नहीं किया गया है.

'संबंध सुधारने की कोशिश'

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption पाकिस्तानी तालिबान के प्रमुख हकीमु्ल्लाह महसूद एक अमरीकी ड्रोन हमले में मारे गए थे.

इस्लामाबाद में अमरीकी दूतावास ने एक बयान जारी कर कहा, "हम अफ़ग़ानिस्तान में अमरीका की हिरासत में रखे गए तीन पाकिस्तानियों की स्वदेश वापसी की पुष्टि करते हैं. अमरीका और पाकिस्तान के बीच बातचीत में मानवोचित व्यवहार के आश्वासन के बाद यह रिहाई की गई है."

"हम हिरासत में रखे गए लोगों की पहचान को लेकर कुछ नहीं बता सकते."

लतीफ़ महसूद पूर्व पाकिस्तानी तालिबान प्रमुख हकीमुल्लाह महसूद के डिप्टी हैं. हकीमुल्लाह एक अमरीकी ड्रोन हमले में मारे गए थे.

लतीफ़ को नैटो सैनिकों ने अक्टूबर 2013 में पाकिस्तानी सीमा के पास पूर्वी अफ़गानिस्तान में पकड़ा था और उन्हें बगराम एयरबेस में रखा गया था.

उस समय ऐसी अपुष्ट ख़बरें थी कि महसूद क़ैदियों की अदला-बदली को लेकर बुलाई गई एक विवादास्पद बैठक से लौट रहे थे, तभी उन्हें पकड़ लिया गया. महसूद के पकड़े जाने से तत्कालीन अफ़गान राष्ट्रपति हामिद करज़ई के नाराज़ होने की भी ख़बरें थीं.

अदला-बदली

काबुल में बीबीसी संवाददाता माइक वूलड्रिज के अनुसार अनुमान है कि अब इस तरह की अदला-बदली की संभावनाएं बन रही हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

इस बीच, अफ़गानिस्तान के नए राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी ने कहा है कि वह तालिबान के साथ संघर्ष के शांतिपूर्ण हल के लिए प्रतिबद्ध हैं.

इससे पहले भी शांति प्रक्रिया को रफ़्तार देने के लिए तालिबान लड़ाकों को छोड़ा गया है.

पाकिस्तानी सरकार ने फ़रवरी में तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) के साथ बातचीत शुरू की है.

इस कट्टरपंथी इस्लामिक संगठन ने पाकिस्तान सरकार के ख़िलाफ़ 2007 में संघर्ष शुरू किया था जिसमें हज़ारों लोग मारे गए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार