जिहादी हिंसा में हर दिन 168 मौतें

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

दुनिया भर में जिहादी हिंसा में नवंबर महीने में हर घंटे सात लोगों की मौत हुई है.

बीबीसी ने जो आकड़े जुटाए हैं उसके अनुसार नवंबर के महीने में पूरी दुनिया में जिहादी हिंसा में 5,042 लोगों की मौत हुई है और इनमें से 80 प्रतिशत मौतें सिर्फ चार देशों में हुई है.

नवंबर महीने में जिहादियों ने 664 हमले किए जिसमें हर दिन 168 लोग मारे गए.

इमेज कॉपीरइट Getty

न्यूज़ रिपोर्टों और नागरिक समाज की रिपोर्टों के अनुसार इराक़, नाइजीरिया, सीरिया और अफ़ग़ानिस्तान में सबसे अधिक मौतें हुई हैं.

इराक़ जिहादी हिंसा के लिए सबसे खतरनाक देश के रुप में सामने आया है जहां 233 हमलों में 1770 लोग मारे गए हैं. ये मौतें आत्मघाती हमलों समेत गोलीबारी में हुई हैं.

नाइजीरिया में 786 लोग मारे गए हैं जहां बोको हराम ने 27 हमले किए हैं. इनमें सबसे बड़ा हमला कानो शहर में था जहां 120 लोग मारे गए थे.

यह जांच बीबीसी ने लंदन के किंग्स कॉलेज के साथ मिलकर की है.

उधर पूर्वी अफ़्रीका में अल शबाब ने सोमालिया और केन्या में 266 लोगों की जान ली है.

इस्लामिक स्टेट सबसे खतरनाक

इमेज कॉपीरइट AP

अफ़ग़ानिस्तान भी जिहादी हिंसा से खासा प्रभावित रहा है जहां 782 लोगों की मौत हुई है. हालांकि अफ़ग़ानिस्तान में बड़े आत्मघाती हमलों की बजाय छोटे छोटे हमले हुए हैं.

युद्धग्रस्त सीरिया में पिछले महीने 693 लोग मारे गए जबकि यमन में 37 हमलों में 410 लोगों की मौत हुई है.

जिहादी हिंसा में लिप्त 16 चरमपंथी गुटों में सबसे खतरनाक गुट इस्लामिक स्टेट पाया गया है जिसने इराक़ और सीरिया में 2200 से अधिक लोगों को मारा है.

इंटरनेशनल सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ रैडिक्लाईजेशन के निदेशक पीटर न्यूमन कहते हैं कि इस्लामिक स्टेट अब वैश्विक जिहाद में अल कायदा की जगह ले चुका है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

संबंधित समाचार