पिस्टोरियस के ख़िलाफ़ अपील को मंजूरी

  • 10 दिसंबर 2014
पिस्टोरियस, गर्लफ्रेंड, अपील इमेज कॉपीरइट AFP

दक्षिण अफ्रीका के उच्च न्यायालय की जज ने पैरालंपिक एथलीट ऑस्कर पिस्टोरियस को दोषमुक्त किए जाने के ख़िलाफ़ अभियोजकों को अपील दायर करने की मंजूरी दे दी है.

पिस्टोरियस को अक्टूबर में अपनी गर्फफ्रेंड रीवा स्टीनकैंप की हत्या के आरोप में पांच साल के क़ैद की सजा सुनाई गई थी.

उच्च न्यायलय की जज टोगोज़ीले मसिपा ने कहा है कि अभियोजक उन्हें दोषमुक्त किए जाने के ख़िलाफ़ अपील कर सकते हैं लेकिन कम सजा के ख़िलाफ़ नहीं.

पिस्टोरियस के वकीलों ने अपील के अनुरोध का विरोध किया है. अब ये मामला सुप्रीम कोर्ट में जाएगा.

पिस्टोरियस के पिता हेंके पिस्टोरियस का कहना है इस मामले को, "इतना आगे नहीं बढ़ना चाहिए था."

समाचार एजेंसी एएफपी ने उनके हवाले से लिखा है, "ऑस्कर मज़बूत है, उसे मज़बूत होना है, वह इसी तरह बड़ा हुआ है, जीवन में बहुत कुछ होता है, ख़ासतौर से उस जैसे आदमी के...अनुचित."

क़ानून की ग़लत व्याख्या

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption पिस्टोरियस को अपनी गर्ल फ्रेंड रीवा स्टीनकैंप की गैर इरादतन हत्या का दोषी पाया गया था.

अभियोजकों की दलील है कि जज मसिपा ने पिस्टोरियस पर लगे हत्या का आरोपों को हटाते वक्त क़ानून की ग़लत व्याख्या की है.

जज ने पिस्टोरियस को इस आधार पर बरी कर दिया कि उन्होंने जान बूझ कर स्टीनकैंप को गोली नहीं मारी थी.

जज मसिपा ने बुधवार को प्रिटोरिया की अदालत में अपील को मंजूरी दी. उन्होंने कहा, "मैं नहीं कह सकती.. कि सुप्रीम कोर्ट में अपील के सफल होने की संभावना बहुत दूर है."

इमेज कॉपीरइट Reuters

हालांकि मसिपा ने अभियोजकों की इस दलील को खारिज कर दिया कि सज़ा पर फिर से विचार होना चाहिए क्योंकि स्टीनकैंप के मां बाप बेहद असंतुष्ट हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार