छोटे-छोटे ताबूतों में बड़ा सा जनाज़ा

पेशावर इमेज कॉपीरइट AP

मंगलवार को पेशावर के आर्मी पब्लिक स्कूल में मारे गए 140 लोगों में से अधिकतर का नमाज़े जनाज़ा चल रहा है.

तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के हमले में मारे गए लोगों में स्कूल स्टाफ़ के भी 9 लोग थे. पाकिस्तानी सेना के अनुसार सभी सात हमलावर भी मारे गए.

दुनिया भर में इस घटना की निंदा हो रही है, यहां तक कि अफ़ग़ानिस्तान में मौजूद तालिबान ने भी इसकी निंदा की है.

इस्लामी रीति रिवाज के अनुसार मंगलवार शाम से ही कुछ लोगों का अंतिम संस्कार किया जाने लगा.

अल्लाह बदला लेगा

इमेज कॉपीरइट REUTERS

मारे गए बच्चों के रिश्तेदारों के अलावा सैकड़ों लोग भी जनाज़े में शामिल हुए.

मारे गए एक बच्चे के पिता ने समाचार एजेंसी एपी से कहा, ''वो सिर्फ़ 15 साल का था और आठवीं कक्षा में पढ़ता था. कल रात मैंने उससे बात की थी. आज सुबह वो मुझ से पहले उठा और स्कूल चला गया''

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption पूरे पाकिस्तान में शोक की लहर

मारे गए एक और बच्चे 10 साला गुल शेर के चाचा साजिद ख़ान ने कहा कि उनका भतीजा डॉक्टर बनना चाहता था लेकिन वो कफ़न में लिपटा हुआ है.

उन्होंने आगे कहा, ''हमलोग उन आतंकवादियों से बदला नहीं ले सकते लेकिन मैं अल्लाह से दुआ करता हूं कि वो उनसे बदला ले.''

दुनिया भर में इस हमले की भर्त्सना हो रही है, यहां तक कि तहरीक-ए-तालिबान पाकि्स्तान के वैचारिक साथी अफ़ग़ानिस्तान के तालिबान ने भी इसकी निंदा करते हुए इसे ग़ैर-इस्लामी क़रार दिया है.

अफ़ग़ानिस्तान तालिबान के प्रवक्ता ज़हीबुल्लाह मुजाहिद ने कहा कि वे लोग पेशावर हमले में मारे गए बच्चों के रिश्तेदारों को शोक संदेश भेज रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार