बदलता इतिहास: ओबामा ने की कास्त्रो से बात..

इमेज कॉपीरइट AP

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने क्यूबा के साथ रिश्तों को एक 'नए अध्याय' की संज्ञा दी है.

एक साल पहले नेल्सन मंडेला के निधन के बाद एक समारोह में राष्ट्रपति ओबामा ने क्यूबा के राष्ट्रपति राउल कास्त्रो से हाथ मिलाकर एक कूटनीतिक सुगबुगाहट पैदा की थी.

मंगलवार को उन्होंने कास्त्रो के साथ 45 मिनट फ़ोन पर बात की और अगले दिन दोनों देशों के रिश्तों में एक नई शुरुआत का एलान कर दिया.

50 साल से भी ज़्यादा से चली आ रही दुश्मनी को खत्म करने के लिए उन्होंने क्यूबा की जनता के साथ एक नया रिश्ता जोड़ने की बात की. उन्होंने कहा कि बरसों से चली आ रही पुरानी सोच को वो बदल देंगे क्योंकि उससे अमरीका को फ़ायदा नहीं हुआ है और इस कदम से वो अमरीका और क्यूबा दोनों ही के लोगों के लिए नए मौके पैदा करेंगे.

'पाबंदी ख़त्म करें'

इमेज कॉपीरइट AP

जहां वाशिंगटन में ओबामा ने ये बयान दिया वहीं हवाना में राउल कास्त्रो ने भी राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि दोनों देश कूटनीतिक संबंध बहाल करने पर राज़ी हो गए हैं.

कास्त्रो का ये भी कहना था कि इसका ये मतलब नहीं है कि सभी मतभेद खत्म हो चुके हैं. उनका कहना था कि क्यूबा पर जो आर्थिक पाबंदियां लगी हुई हैं उन्हें ख़त्म करने की ज़रूरत है.

ओबामा ने अपने एलान में व्यापार और पर्यटन में बढ़ोतरी की बात की है, दूतावास खोलने की बात की है और क्यूबा से आयात में भी कुछ नरमी का एलान किया है.

कहा जा रहा है कि दोनों देशों के रिश्तों को सामान्य करने के लिए एक साल से कोशिशें चल रही थीं. बुधवार को क्यूबा की जेल में बंद अमरीकी नागरिक ऐलन ग्रॉस की रिहाई और उसके बदले अमरीकी जेल में जासूसी के आरोप में बंद तीन क्यूबन नागरिकों की रिहाई ने इसका रास्ता खोल दिया.

तारीफ़

इमेज कॉपीरइट Reuters

जहां बहुत लोगों ने इसे ओबामा की विदेश नीति का पहला बोल्ड कदम करार देते हुए इसकी तारीफ़ की है वहीं कांग्रेस में कई रिपब्लिकंस और कुछ डेमौक्रैट भी इस फ़ैसले की सख़्त आलोचना कर रहे हैं.

क्यूबन मूल के अमरीकी नागरिक और सेनेटर मार्को रूबियो ने इसे ओबामा की विदेश नीति में सबसे नासमझी वाला फ़ैसला करार दिया.

मार्को रूबियो का कहना था कि इस फ़ैसले से क्यूबा की फ़ौज और लोगों को दबा कर रखनेवाली हुकूमत के हाथ मज़बूत होंगे और उनकी आर्थिक ताक़त बढ़ेगी.

जहां ओबामा ने दोनों देशों के रिश्तों को बहाल करने के लिए अपने राष्ट्रपति पद के विशेषाधिकारों का इस्तेमाल किया है वहीं क्यूबा पर लगी आर्थिक पाबंदियां बिना कांग्रेस की मंज़ूरी के नई हटाई जा सकतीं.

दोनों देशो के रिश्तों में आर्थिक पाबंदियों को सबसे बड़ी रूकावट माना जा रहा है और विश्लेषकों का कहना है कि इस मामले पर कांग्रेस को मनाना ओबामा के लिए एक बड़ी चुनौती होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार